FmD4FRX3FmXvDZXvGZT3FRFgNBP1w326w3z1NBMhNV5=

Footer Link

items

Who did I fuck with?

English हिंदी

Who did I fuck with?

Hello friends, my name is Riya. I was visiting my friend's wedding and when I went to sleep there, an unknown boy came and did what he did to me, I still do not believe. Was my mistake somewhere? "Mona!" I was shocked. Just now something said that a hand came and sat on my mouth. Someone whispered in the ear - "Sweetheart, I am, Tarun. How long you've been waiting. " I quite. Tarun, the same smart little girl who was following the girls very far behind. I kept lying down In the dark of the room he is thinking of me as Mona. "I was sure you would come. Every moment like a mountain was waiting for you. You hurt me so much. " My heart was beating loudly. Wanted to speak something but were not speaking. With whom is Mona secretly circling? She did not tell me anything! In front of me, she used to be very innocent and hard. He was supposed to sleep in this room today. But she went to the pavilion to see the groom. I was feeling sleepy and it was getting late at night. That's why she came and slept in his room. Did not see who else is sleeping on the bed covering the sheets. Thought someone would Who will sleep in the wedding house is not sure. This incident was lying down. "Mona sweetheart, You are so good that she has come. " His hand was still closing my mouth. "I love you." He smacked me in my ear and kissed. The sound of the kiss echoes from head to toe throughout the body. I became deaf. The heart was beating so hard that it would jump out. I was thinking that I should just go out by pushing him. But she lay down quietly due to fear and panic. He was accepting my silence as acceptance. His hand removed from my mouth. He stretched out his bed and covered me inside and covered his body. My heart beat on his chest like a hammer. "How hard is beating Father." He said as if to himself. He tightened me further to reassure me. "Sweetheart I Love You, I Love You." Do not panic." My mind was saying Riya, now is the time, redeem yourself and get out. Make noise It will then understand what the result of teasing a silent girl is. Has come to attend the wedding or do it all! But now he needed courage to get rid of it. There was a feeling of getting out on one side and on the other side it was also seen what I would do next. Due to fear, nervousness and curiosity, I am taking root His hand was spinning on my back. His hot breaths were burning on the cheeks. I smelled the breath of a man for the first time. I found it strange. However, there was nothing in it. But I did not feel that bad either. He was taking advantage of my confusion and I was wondering why I was not doing anything! I should have pushed him out immediately and given a good punishment for his handiwork. I thought I will not stop now. I started pushing to leave. Now she was about to shout… that when she came looking for her lips, she froze on my mouth. I wanted to say something and he was kissing me, pulling my breath out of my open mouth. My strength began to wane. Felt suffocated I had to leave but it seemed I was getting caught. My two hands began to weaken under his hands. I wanted to leave but was feeling overwhelmed. His hand was playing with a bra lace on my back. I did not know when he opened the zip of my frock. His hand was rotating on my bare back and was hitting the bra lace. For the first time, a rough and strong touch of a man's palm. I wanted to keep myself unaffected by being rooted, but the movement of her hands and the body The tightness of the arms binding did not let me stay apart. I felt all this very bad but not unacceptable. I could not even imagine that I would ever let this happen to me. But… he was trying to unbutton my bra but the hook was not opening. Absurdly, he pulled the lace on both sides with a loud shock. The hook broke and the laces broke apart. I felt liberation, of the loosening on my sides and chest. I took a breath. Right now he was going mad just by touching his back. What will happen next Who was that Who was i ?? His lips were coming down from my lips and coming on the throat. The smell of his breath went away. He was trying to peel Frock off his shoulders. Taking out one of my arms from the fracas, he lifted it on top of my head and rubbed that hand down and came down and filled my armpit in the palm. His full tightness on the hot and wet armpits seemed intoxicating. There was no going away from me. Encouraged by the first success, he took me to another side while wrapped in arms and with a little effort, he also took out the second arm of the fracas. With both my hands up, he tied it in his hands and started kissing my sides. Licking his hot salty sweat started licking. I felt disgusted by this action, but I was getting tickled and was getting intoxicated. I did not know that kissing the birds could be so intoxicating. I stopped trying to get my hands off. My mother-in-law started getting faster. He was filled with joy. She is convinced that I will not protest now. He gave me support and pulled the fracas over the head. The bra swinged on my chest. She tried to pull the bra off her lace shoulders but I pressed her breasts with her hands. I felt the prick of my nipples under the bra on my hands. My Tits got tight and stood up. I fell in shame. He slowly laid me down. My hands were held on the umbrellas. He now started kissing the hands buried on my umbrellas from the top and the open space below. The lower part of my bulges had come out under my hands. He bites his teeth lightly in it. With the pain of prick, a gunna ran into the body and the pressure of the hands on the umbrellas could not stand. Then she pulled the bra down and straightened my hands. Now I was naked above my waist. Thankfully it was dark and he could not see me. His hands were moving on my umbrellas. He caught the teaspoon in a pinch and mashed it lightly. I groaned. Ah, what is happening! Why is all this so annoying! He bent down and kissed my mouth. I tasted the salty sweat of her sides on her lips. I licked her lips. She laughed at my naughty action and gave a lot of kisses. He now came down and started sucking one of my nipples in his mouth. I got angry. For a moment he thought of me as a child and I pressed his head to my breast. It seemed that waves are running all over the body from the Acacia. He sometimes sucked one nipple and sometimes another. As soon as the mouth fell, the nipple would feel cold and at the same time one would feel the warmth and tightness of lips on the second teat. I started rubbing my thighs. Upside down from my loud moving breath, the umbrellas were calling themselves as if they were getting up. Now he was kissing my navel. As if calling someone from within his small hole. I was getting a desire to take him inside myself. Within myself, Keep it safe inside the womb. I suddenly felt very empty inside - come, fill me. Without fear, he pulled the cord of my shalwar and put his hand inside the loose shalwar to suppress my bloated bulge. My panties were getting wet. He traced the inner erosion from the top of the panty with fingers and kept the finger on the length of erosion and pressed it inside. I trembled. Lightning waves were running in the body. Now he rammed his hand inside the panty and started to finger me in my raspy raspy erosion. While twisting his finger, he pressed and mashed the shimmering little bud at the peak. I woke up. My bud was laying like a fish under her finger. I started shoving my buttock. He inserted a finger inside my hole and with one he pressed my bud. He was stroking the walls inside the hole very hard. Now the softness in his antics was getting depleted. The trunks were crawling on the body. I used to think that waves are lifting me on waves. While fingering fingers in the vagina, he Shalwar slid from the bottom of my rising buttocks by hand. After that, the panty also swung down from the buttocks, rotating from the waist to both sides. He pulled my panties out of the legs while running fingers continuously inside me. Where did I not let her make my breasts explode? Now I was helping to open my vagina. I was naked within the bed. Now I thought he would come. I was ready But he was torturing me with delay. He was sliding down kissing me. Below the navel. Between the hip bones, On soft flesh. There he bites his teeth. I was going crazy. He slid further down. At the beginning of the hair below. Hey where? I wanted to stop But where was the possibility of protest. It was difficult to bear. He was licking those hairs and pulling them from the teeth with his mouth in between. Then he tore the flesh of the entire bulge and took it inside and buried his teeth in it. Siski came out of my mouth. Wave of pain and suffering together. Oh oh. Hey what is this! I realized his sliding tongue on the crest of erosion. I wanted to stop her by thighs. But he knew the weakness of my opposition. He didn't force anything, Just stayed. I spread my legs on my own. He started licking my hair. Sometimes he would suck it and sometimes lick it. Sometimes the tip of the tongue would penetrate from top to bottom by penetrating the pointed and hard curvature. Sometimes the tongue would move like a snake and sometimes it would press on its rough surface like a glue. There was no shortage of arrows in his cravings. I do not know how he was being made mad and excited. Right now he was licking his tongue wide and covering the erosion. My lips on both sides spread and swollen like orange. He was sucking them in turn by pulling them in the mouth. He was biting his teeth in them. I was beating in a wave of joy over pain and pain from tooth fall. My juice was flowing. He tightened my trembling little bud in the lips and sometimes he started sucking it by pulling it very hard while crushing it with teeth, sometimes lips. I got out of control Ahh! Ahh! Ahh! Hey? Hey? Hey? …… Ja… Ja… Ja…. I burst like a dam. The body that has been frozen for centuries, like the earth, started quivering in an earthquake. He stretched the hole from both sides by pulling it with his fingers and started drinking his juice inside me. The first rasadhara of virgin body. The first rain on dry earth c. He was licking and twisting the tongue inside the vagina. As if you do not want to drop even a drop of that precious juice. I became unconscious. After some time when I became aware, I felt its weight on me. I searched with my hands. He was climbing on me. With the movement of my hands, he came to know my senses. He put his mouth on my face. A pungent smell filled my nostrils. I had lilisa juice on her lips. I tasted it myself. There was a strange taste - salty, pungent, Very smooth. I drowned in her smell. He drank me heavily. There was no hesitation on how to face that place. Every single piece of mine deserved love for him. I was filled with a gratitude. I kissed her deeply and her lips, Licked the cheeks and licked them all. In the dark, I handed myself over to him. I had no dilemma. He was thinking of me as Mona. I was enjoying it without any fear. I tighten it in my arms. And then I came to know that something thick was going on my thighs. Looking for something sliding between the thighs. Then she descended into my cleavage and slipped into the smooth juice of the place and came down under pressure and knocked on the anus hole. A warning ran inside me. Now there is danger in moving forward. Now he was back to real work. The event whose every girl waits till marriage in her youth and whom she wants to save only for her husband. What had happened so far could be taken as an adventure. But now what will happen after this, only the master of my body and mind had the right. Which I wanted to offer to the prince of dreams. But how to stop After what has happened so far Stop like I was completely naked. He not only touched my body but went to the ultimate extent of his secret and drank my mouth in my most secret part and also drank my first-ever ripped virgin, which I had not even known before. He was overshadowed by me. I was covered under him. Nature was now asking me for her share, for which she had prepared me since birth. Was looking for his penis My vagina also wanted to meet him, Was pushing me to move forward. . I thanked the darkness for giving it. He was the one helping me. I gave up the restraint. Wherever the horse of destiny takes He rose slightly and landed down on me. He bended my legs from my knees and spread my knees like the pages of a book. Search for destination Grabbed the penis with his hand and brought it to the mouth of the hole. There he rubbed the top down and soaked it well in the juice. I was very much awaited. What does it do. The paws of my feet were attached to my buttocks in a posture of salutation. He brought the mouth of the penis to my hole and rested it lightly. Then I came to know the thickness of his snout and I got scared. How will this fat go inside my little hole? The mouth of my hole spread and his penis came on it. Now there was no fear of him slipping around. Resting the penis there, he removed his hand and bent over me. She folded my hands under my sides and combed me Grabbed from above. With his weight, the penis started to sink inside. Now I was going. She was getting robbed. The thief was slowly snatching my most precious from my hands. With my agreement. And I was not doing anything. She was helping to snatch him by not resisting. Darkness was causing me to be robbed. Who will know? Then what is the problem? Why to stop? Darkness was deceiving me by helping me against my will. Darkness was tricking him too because I was not his mona, but he was helping him too because he made me relax and made him available to me. The most precious thing of a virgin girl. What a great gift he was inadvertently getting! Knowing that I would let him put his hand in it too! Even when I want to talk, I am longing to talk to myself. But what was I doing when I was unknown. He was violating my virginity and I was cooperating. His penis was knocking on the mouth of my vagina. He felt a shock and his penis got bit further inside. As if the hole started to burst. I woke up with pain. He tried to forcefully remove it but could not redeem himself. Above me he was holding me by the shoulders and at the bottom, turning my legs and chasing me with my feet in front. How is it left! He pressed harder. Ahh, I will die The thick neck of the penis got pierced like a nail. He stopped. Probably giving the hole time to stretch. I grabbed him by the sides and tried to get rid of him. But there was no success. He held me tightly. There is no solution. No assistance. It was badly trapped. He stayed in the same condition. After some time, the pain of the stretch of the vagina started to subside. There was a slight relief. Dare to face it But then a strong push came and all my body was jammed up with the thrust of the attack. The penis penetrated into me almost tearing me. I screamed out of pain but he closed my mouth and stole the voice inside. He was being heartless. I thought he would kill me today. I was getting torn in the same way that an ax tears wood. He was not even letting me flirt. There was clap from all sides. He had to press his hand on the mouth and his two legs were attached to my buttocks with his feet attached at the bottom. The shoulder was above. Also move Was difficult. Now he was not ready to show any mercy. He was increasing his pressure on the hole. The nail was slowly being thrust into me. The penis had penetrated inside me a lot. He was moving inside the vagina's smooth wetness. I was distraught with pain. I was going to rip a torrent of Nashtar. Leave leave But my um like a face tied animal… um…. The voice was choking inside. Stirring in the tunnel hit his penis as if it was obstructed. Something was blocking his way like a wall. That thing was not allowing him to move even though it was under the pressure of his point. I was being torn inside. He pushed harder and furiously. The inner curtain began to explode. There was a feeling of pain. I also took thighs. How to get rid of. Thrusted from many sides. But could not do anything. It was becoming halal like a goat tied with rope. Wept in compulsion She was trying to protect herself only by thighs. But the thighs were spread. In an attempt to squeeze, the hole was getting harder and more painful. Maybe he felt sorry for me. He put his hont over my flowing tears. I took pity on him in that pain too. This man is still not cruel. Understand my pain He sucked all the tears. Tongue on my closed eyelids also dried them. What a contradiction! The harsh, life-threatening cruelty of the penis from below, the tender sympathetic consolatory love of his tongue from above. Like my bird, he put a seal of kisses on the ajar mouth repeatedly. Then landed the chin, kissing the neck, collar bone, and in waiting, took my left nipple in a warm circle inside my lips. Then, taking my hand out from under my right shoulder, grabbed the second teat in my waiting cock in a pinch. Despite the pain of the winding down, waves of joy began to run in me. Pain on one side and a wave of pleasure on the other side. Where can I go? One was torturing, the other was tempted. For a few moments, the hiccups of joy kept on swinging me, and the pain of prick in those hiccups also seemed to be a little mild. Although he was equally entrenched in me. "Mona I Love You… I Love You…." He murmured from there while sucking the tits. 'Mona!' Yes, I was not Riya. Mona for him. I had forgotten that I was not Mona, in the sharp sensation of sensations. He was pouring this much love on me as someone else. I regret it I want to tell him But in the waves of pleasure and pain, I found this idea futile. What difference did I make in what I was experiencing, the joy, the pain I was getting. He had to suffer. That woman was the inevitable destiny of the body. There was no other way. Below that unknown guest had dipped my vagina in the juice of her identity and had already been called inside. What was left now? And then the sparks came out in front of the eyes and I fainted in a wave of pain. 'Dhachak' ..! He pulled the penis out slightly. I thought he was doing it in sympathy, Therefore, it was lying loose. But then there was a great shock and the stars danced in front of my eyes. He entered me, tearing me. I could not even convince myself to stop him. I stopped breathing I woke up. Come .. ऽ ..ऽ .. ह .. h… .. come .. ऽ ..ऽ ..… h… .. leave me, leave me… He stayed like he was enjoying my spanking. No mercy. Like a hunter watching his prey. But he did not give me a chance to overcome the wave of pain. I could not even breathe properly now that another attack occurred. Another loud push came and he got rooted in me like a hot bar. My heart is in my mouth. As if its end had penetrated to my heart. The nail had completely fallen off and my virginity had died like a butterfly, and after finishing it, it was over. Now he could never return. Never in this life now. I was filled with guilt. Which is so precious, Had saved so much and had lost it inexpensively. Never be able to get her back. I felt very tightly lost of my very precious thing. I blushed. "Darling, done, that's it ... that's it." He was trying to console me. 'this much only!' What is it less? "Nothing will happen anymore." That was all I had to endure. " He started caressing me - the shoulders, the sides, the soft umbrellas. First time has to endure a little. There will never be pain after this. " He was trying to soothe the pain that was coming from the joint of my thighs to the very inner burning sensation of a burning fire. His hand was moving very slowly, on delicate cunts suffering from pain, on soft stomachs with sharp breaths, on the throbbing fleshy trees below him. He was comforting - on the thighs, on the knees, on the feet, on the soft soles, from there on the narrow waist, above respectively. On the widening torso. He was moving around as if he was drawing my pain. The kisses of comforting, touching, reassuring kisses were slowly taking effect. The burning of that fire was decreasing. Although the pain was still very much. But the strength to bear the strength of his love was coming. Just like a woman who suffers great pain on the strength of man's love. I had become a woman now. But was he my man? A little was burning. I was burning. The jealousy was burning between my thighs where his victory flag was fluttering with full vigor, whose pillar was buried piercing till my womb. I was burning helpless in her aarti. Loss, forced burn. I was jealous. However, vaginal irritation was now decreasing. It was not his fault, I had chosen it myself, By becoming Mona. His penis moved inside me. This time there was no pain. He got out a little and then entered without any particular hindrance. There was a knock on the face of the womb. Fearing, I then stopped breathing. But there was no significant pain. He stopped a bit and then moved out a little. more than before. With her on my penis the walls of my vagina were pulled out. There was pressure on my inner soft buttocks and that thick penis rubbed into me and then got inside. Now my vagina was expanding. He started to push slowly. This time the pain decreased slightly. My fear subsided. Will be able to bear now. Gradually the thrust of the bumps started increasing. His penis started sliding hard into my last tunnel. He was getting in and out of the vagina and was erasing the right spots. I was suffering. For the first time, the spread of the vagina was intact. Still, I felt pity for her patience and tenderness. In sympathy, I shoved my buttocks to meet her. He was filled with excitement. And started pushing hard. In the midst of the pain in my vagina, even mild waves of pleasure began to arise. He started pushing harder. His penis would come to the mouth of my hole and then curlly would enter inside. When you get out, you will get relief and go in pain, although not as unbearable as the first time. He was panting. My hands roaming her body were getting wet with her sweat. He was pushing hard. I was panting too. To relieve the pain, he sometimes slapped his hands on his back, sometimes shrugged it off. He thought it was fun for me. He became more active, and started hurrying. A groan came out of his mouth… come… ..… and he squeezed me hard. My bones started chopping in tightness. I felt my penis expanding and shrinking within me. At each stroke, a warm lava filled me inside. Aa ..ऽ ..ऽ ..ऽ H… O ..ऽ..ऽ..ऽ .. H… He was falling and his hot torrent was getting filled inside me. He was falling in me again and again. Like a flood it filled me. My vagina, my puffed pellets got wet in that hot rage. The surrounding hair got wet and got stuck in the skin. I also felt the need to lose. But it was also painful. First time pain. I caressed her and then kissed her mouth. I do not know why I felt a gratitude, though he disguised my modesty by hiding me like a thief. But still I took the first bath in his torrent. He woke up. The liquid liquid flowing through the thick vagina was wiped from the hole, from the crack, from below the anal hole, from above the pussy and landed on me. I also have my panties, Took her shalwar and frantically picked up the bra and frock and went to the bathroom. Now everything was finished. In the bathroom light, I saw blood stains on the shalwar and on the fracas. When I got out after wiping the wash, I tried to take his breath in bed in the dark. The sound of deep breaths was coming. He was sleeping that's good. When Mona comes to sleep, she will understand. I opened the door and walked out. —————————————- I always remember that experience. Even today I ask myself, who was that? Also who was I?

ये मैं किससे चुद गयी?

हेल्लो दोस्तों, मेरा नाम रिया है। मैं अपनी फ्रेंड की शादी मैं आई हुई थी और वहां जब सोने गयी तो एक अनजान लड़के ने आकर मेरे साथ जो किया मुझे आज भी यकीं नहीं होता। कहीं मेरी गलती भी थी। ”मोना!” मैं एकदम चौंक पड़ी। अभी कुछ बोलती ही कि एक हाथ आकर मेरे मुँह पर बैठ गया। कान में कोई फुसफुसाया – ”’जानेमन, मैं हूँ, तरुण। कितनी देर से तुम्हारा इंतजार कर रहा था।” मैं चुप। तरुण, वही स्मार्ट-सा छोरा जो लडकियों के बहुत आगे पीछे कर रहा था। मैं दम साधे लेटी रही। कमरे के अंधेरे में वह मुझे मोना समझ रहा है। ”मुझे यकीन था कि तुम आओगी। एक एक पल पहाड़ सा बीत रहा था तुम्हारे इंतजार में। तुमने मुझे कितना तडपाया।” मेरा कलेजा जोरों से धड़क रहा था। कुछ बोलना चाहती थी मगर बोल नहीं फूट रहे थे। मोना गुपचुप यह किसके साथ चक्कर चला रही है?। मुझे तो वह कुछ बताती नहीं थी! मेरे सामने तो वह बड़ी अबोध और कड़ी बनती थी। इस कमरे में आज उसे सोना था। मगर वह दूल्हे को देखने मंडप चली गई थी। मुझे नींद आ रही थी और रात ज्यादा हो रही थी। इसलिए उसी के कमरे में आकर सो गई थी। चादर ढँके बिस्तर पर दूसरा कौन सो रहा है देखा नहीं। सोचा कोई होगी। शादी के घर में कौन कहाँ सोएगा निश्चित नहीं रहता। अभी लेटी ही थी कि यह घटना। “मोना जानेमन, तुम कितनी अच्छी हो जो आ गई।” उसका हाथ अभी भी मेरा मुँह बंद किए था। “आइ लव यू।” उसने मेरे कान में मुँह घुसाकर चूम लिया। चुंबन की आवाज सिर से पाँव तक पूरे बदन में गूँज गई। मैं बहरी-सी हो गई। कलेजा इतनी जोर धडक रहा था कि उछलकर बाहर आ जाएगा। मन हो रहा था अभी ही उसे ठेलकर बाहर निकल जाऊँ। मगर डर और घबराहट के मारे चुपचाप लेटी रही। वह मेरी चुप्पी को स्वीकृति समझ रहा था। उसका हाथ मेरे मुँह पर से हट गया। उसने अपनी चादर बढ़ाकर मुझे अंदर समेट लिया और अपने बदन से सटा लिया। उसके सीने पर मेरे दिल की घड़कन हथौडे की तरह बजने लगी। “बाप रे कितनी जोर से धड़क रहा है।” उसने मानों खुद से ही कहा। मुझे आश्वस्त करने के लिए उसने मुझे और जोर से कस लिया। “जानेमन आई लव यू, आई लव यू। घबराओ मत।” मेरा मन कह रहा था रिया, अभी समय है, छुड़ाओ खुद को और बाहर निकल जाओ। शोर मचा दो। तब यह समझेगा कि चुपचुप लड़की को छेड़ने का क्या नतीजा होता है। शादी अटेन्ड करने आया है या यह सब करने! मगर अब उससे जोर लगाकर छुड़ाने के लिए हिम्मत चाहिए थी। एक तरफ निकल जाने का मन हो रहा था दूसरी तरफ यह भी लग रहा था कि देखूँ आगे क्या करता हैं। डर, घबराहट और उत्सुकता के मारे मैं जड़ हो रही। उसका हाथ मेरी पीठ पर घूम रहा था। गालों पर उसकी गर्म साँसें जल रही थीं। मुझे पहली बार किसी पुरुष की साँस की गंध लगी। वह मुझे अजीब सी लगी। हालाँकि उसमें कुछ भी नहीं था। पर वह मुझे वह बुरी भी नहीं लगी। वह मेरी किंकर्तव्यमूढ़ता का फायदा उठा रहा था और मुझे आश्चर्य हो रहा था कि मैं कुछ कर क्यों नही रही! मुझे उसे तुरंत धक्का देकर बाहर निकल जाना चाहिए था और उसकी करतूत की अच्छी सजा देनी चाहिए थी। मैंने सोच लिया अब और नहीं रुकूंगी। मैं छूटने के लिए जोर लगाने लगी। अब चिल्लाने ही वाली थी … कि तभी उसके होंठ ढूंढते हुए आकर मेरे मुँह पर जम गए। मैं कुछ बोलना चाह रही थी और वह मेरे खुलते मुँह में से मेरी साँसें खींचते मुझे चूम रहा था। मेरी ताकत ढीली पड़ने लगी। दम घुटने लगा। मुझे निकलना था मगर लग रहा था मैं उसकी गिरफ्त में आती जा रही हूँ। मेरे दोनों हाथ उसके हाथों के नीचे दबे कमजोर पड़ने लगे। मैं छूटना चाहती थी मगर अवश हो रही थी। उसका हाथ पीछे मेरी पीठ पर ब्रा के फीते से खेल रहा था। कब उसने पीछे मेरे फ्रॉक की जिप खोल दी थी मुझे पता नहीं चला। उसका हाथ मेरी नंगी पीठ पर घूम रहा था और ब्रा के फीते से टकरा रहा था। पहली बार किसी पुरुष की हथेली का एक रूखा और ताकत भरा स्पर्श । मैं जड़ रहकर अपने को अप्रभावित रखना चाह रही थी मगर उसके घूमते हाथों का सहलाव और बदन पर बाँहों के बंधन का कसाव मुझे अलग रहने नहीं दे रहे थे। मुझे यह सब बहुत बुरा लग रहा था मगर अस्वीकार्य भी नहीं। मैं सोच भी नहीं सकती थी कि कभी यह सब मैं अपने साथ होने दूंगी। मगर … वह मेरे ब्रा के फीते को खोलने की कोशिश कर रहा था मगर हुक खुल नहीं रहा था। बेसब्र होकर उसने दोनो तरफ फीतों को जोर से झटके से खींच दिया। हुक टूट गया और फीते अलग हो गए। मुझे अपने बगलों और छाती पर ढीलेपन का, मुक्ति का एहसास हुआ। मैंने एक साँस भरी। अभी तो वह बस पीठ छूकर ही पागल हो रहा था। आगे क्या होगा! वो कौन था? मैं कौन थी?? उसके होंठ मेरे होंठों से उतरकर गले पर आ रहे थे। उसके सांसों की सोंधी गंध दूर चली गई। वह फ्राक को कंधों पर से छीलने की कोशिश कर रहा था। मेरी एक बांह फ्राक से बाहर निकालकर उसने उसे मेरे सिर के ऊपर उठा दिया और उस हाथ को ऊपर से सहलाते हुए नीचे उतरकर मेरे बगल को हथेली में भर लिया। गर्म और गीली काँख पर उसका भरा भरा कसाव मादक लग रहा था। मुझसे अलग रहा नहीं जा रहा था। पहली सफलता से उत्साहित होकर उसने मुझे बाँहों में लपेटे हुए ही थोड़ा दूसरे करवट पर लिया और थोड़ी कोशिश से फ्राक की दूसरी बाँह भी बाहर निकाल दी। मेरे दोनो हाथों को ऊपर उठाकर उसने अपने हाथों में बांध लिया और मेरे बगलों को चूमने लगा। उसके गर्म नमकीन पसीने को चूसने चाटने लगा। उसकी इस हरकत पर मुझे घिन आई मगर मुझे गुदगुदी हो रही थी और नशा-सा भी आ रहा था। मुझे नहीं मालूम था कि बगलों का चूमना इतना मादक हो सकता है। मैंने हाथ छुड़ाने की कोशिश बंद कर दी। मेरी सासें तेज होने लगीं। वह खुशी से भर गया। उसे यकीन हो गया कि अब मैं विरोध नहीं करूंगी। उसने मुझे सहारा देकर बिठाया और फ्राक सिर के ऊपर खींच लिया। ब्रा मेरी छाती पर झूल गई। उसने उसके फीते कंधों पर से सरकाकर ब्रा को निकालना चाहा मगर मैंने स्तनों को हाथों से दबा लिया। हाथों पर ब्रा के नीचे मुझे अपनी चूचियों की चुभन महसूस हुई। मेरी चूचियाँ टाइट होकर होकर खड़ी हो गई थीं। मैं शर्म से गड़ गई। उसने मुझे धीरे धीरे लिटा दिया। मेरे हाथ छातियों पर दबे रहे। वह अब ऊपर से ही मेरे छातियों पर दबे हाथों को और ऊपर नीचे की खुली जगह को इधर से उधर से चूमने लगा। दबकर मेरे उभारों का निचला हिस्सा हाथों के नीचे थोड़ा बाहर निकल आया था। उसने उसमें हलके से दाँत गड़ा दिया। चुभन के दर्द के साथ एक गनगनाहट बदन में दौड़ गई और छातियों पर हाथों का दबाव ठहर नही सका। तभी उसने ब्रा नीचे से खीच ली और मेरे हाथों को सीधा कर दिया। अब मैं कमर के ऊपर बिल्कुल नंगी थी। गनीमत थी कि अंधेरा था और वह मुझे देख नहीं सकता था। उसके हाथ मेरी छातियों पर घूम रहे थे। उसने चूचियों को चुटकियों में पकड लिया और हलके से मसल दिया। मैं कराह उठी। आह, ये क्या हो रहा है! यह सब इतना विह्वल कर देने वाला क्यों है! उसने झुककर मेरे मुँह पर चूम लिया। मुझे उसके होठों पर अपने बगलों के नमकीन पसीने का स्वाद आया। मैंने उसके होठों को चाट लिया। वह मेरी इस नटखट हरकत पर हँसा और तडातड कई चुम्बन जड दिये। वह अब नीचे उतरा और मेरी एक चूची को मुँह में भरकर चूसने लगा। मैं गनगना उठी। एक क्षण के लिए वह एक बच्चे का सा खयाल मेरे मन में घूम गया और मैंने उसका सिर अपने स्तन पर दबा लिया। लग रहा था चूचियों से तरंगें उठकर सारे बदन में दौड़ रही हैं। वह कभी एक निपुल को चूसता कभी दूसरे को। मुँह के हँटते ही उस निपुल पर ठंडक लगती और उसी समय दूसरी चूची पर गर्माहट और होंठों के कसाव का एहसास मिलता। मैं अपने जांघों को आपस में रगड़ने लगी। मेरी जोर से चलती सांसों से उपर नीचे होती छातियाँ मानों खुद ही उसे उठ उठकर बुला रही थीं। अब वह मेरी नाभि को चूम रहा था। मानों उसके छोटे से छेद के भीतर से किसी को बुला रहा हो। इच्छा हो रही थी वहीँ से उसे अपने भीतर उतार लूँ। अपने बहुत भीतर, गर्भ के अंदर में सुरक्षित रख लूँ। मुझे एकाएक भीतर बहुत खाली सा लगा – आओ, मुझे भर दो। उसने बिना भय के मेरी शलवार की डोरी खींच ली और ढीली शलवार के भीतर हाथ डालकर मेरे फूले उभार को दबाने लगा। मेरी पैंटी गीली हो रही थी। उसने पैंटी के ऊपर से भीतर के कटाव को उंगलियों से ट्रेस किया और कटाव की लम्बाई पर उंगली रखकर भीतर दबा दिया। मैं सिहर उठी। बदन में बिजली की तरंगें दौड़ रही थीं। अब उसने पैंटी के भीतर हाथ घुसेड़ा और मेरे चपचपाते रसभरे कटाव में उंगली घुमाने लगा। उंगली घुमाते घुमाते उसने शिखर पर सिहरती नन्हीं कली को जोर से दबाकर मसल दिया। मैं ओह ओह कर हो उठी। मेरी कली उसकी उंगली के नीचे मछली सी बिछल रही थी। मैं अपने नितंब उचकाने लगी। उसने एक उंगली मेरी छेद के भीतर घुसा दी और एक से वह मेरी कली को दबाने लगा। छेद के अंदर की दीवारों को वह जोर जोर से सहला रहा था। अब उसकी हरकतों मे कोमलता समाप्त होती जा रही थी। बदन पर चूँटियाँ रेंग रही थीं। लगता था तरंगों पर तरंगें उठा उठाकर मुझे उछाल रही हैं। योनि में उंगलियाँ चुभलाते हुए उसने दूसरे हाथ से मेरे उठते गिरते नितंबों के नीचे से शलवार खिसका दी। उसके बाद पैंटी को भी बारी बारी से कमर से दोनों तरफ से खिसकाते हुए नितम्बों से नीचे सरका दिया। उंगलियाँ मेरे अंदर लगातार चलाते हुए उसने मेरी पैंटी भी खींचकर टांगों से बाहर कर दी। कहाँ तो मैंने उसे अपने स्तन उघाड़ने नहीं दिया था कहाँ अब मैं खुद अपनी योनि खोलने में सहयोग दे रही थी। मैं चादर के भीतर मादरजाद नंगी थी। अब मुझे लग रहा था वह आएगा। मैं तैयार थी। मगर वह देरी करके मुझे तड़पा रहा था। वह मुझे चूमते हुए नीचे खिसक रहा था। नाभि से नीचे। कूल्हों की हडिडयों के बीच, नर्म मांस पर। वहाँ उसने हौले से दाँत गड़ा दिए। मैं पागल हो रही थी। वह और नीचे खिसका। नीचे के बालों की शुरूआत पर। अरे उधर कहाँ। मैंने रोकना चाहा। मगर विरोध की संभावना कहाँ थी। सहना मुश्किल हो रहा था। वह उन बालों को चाट रहा था और बीच बीच में उन्हें मुँह में लेकर दाँतों से खींच रहा था। फिर उसने पूरे उभार के माँस को ही मुँह फाड़कर भीतर लेते हुए उसमें दाँत गड़ा दिये। मेरे मुँह से सिसकारी निकल गई। दर्द और पीड़ा की लहर एक साथ। ओह ओह। अरे यह क्या! मुझे कटाव के शिखर पर उसकी सरकती जीभ का एहसास हुआ। मैंने जांघों को सटाकर उसे रोकना चाहा। मगर वह मेरे विरोध की कमजोरी को जानता था। उसने कुछ जोर नहीं लगाया, सिर्फ ठहर गया। मैंने खुद ही अपनी टांगें फैला दी। वह मेरी फाँक को चाटने लगा। कभी वह उसे चूसता कभी चाटता। कभी जीभ की नोक नुकीली और कडी क़रके कटाव के अंदर घुसाकर ऊपर से नीचे तक जुताई करता। कभी जीभ साँप की तरह सरकती कभी दबा दबा कर अपनी खुरदरी सतह से सरेस की तरह रगड़ती। उसके तरकस में तीरों की कमी नहीं थी। पता नहीं किस किस तरह से वह मुझे पागल और उत्तेजित किए जा रहा था। अभी वो जीभ चौड़ी करके पूरे कटाव को ढकते हुए उसमें उतरकर चाट रहा था। मेरे दोनों तरफ के होंठ फैलकर संतरे की फांक की तरह फूल गए थे। वह उन्हें बारी बारी से मुँह में खींचकर चूस रहा था। उनमें अपने दाँत गड़ा रहा था। दाँत के गड़ाव से दर्द और दर्द पर उमड़ती आनंद की लहर में मैं पछाड़ खा रही थी। मेरा रस बह बह कर निकल रहा था। उसने मेरी थरथराती नन्हीं कली को होठों में कस लिया और उसे कभी वह दाँतों से, कभी होंठों से कुचलते हुए जोर जोर से खींच खींचकर चूसने लगा। मै आपे से बाहर हो उठी। आह! आह! आह! अरे? अरे? अरे? …… जा… जा… जा…। मैं बांध की तरह फूट पड़ी। सदियों से जमी हुई देह मानों धरती की तरह भूकंप में हिचकोले खाने लगी। उसने उंगलियों से खींच कर छेद को दोनों तरफ से फैला दिया और उसमें भीतर मुँह ओप कर मेरा रस पीने लगा। कुंआरी देह की पहली रसधार। सूखी धरती पर पहली बारिश सी। वह योनि के भीतर जीभ घुसाकर घुमा घुमाकर चाट रहा था। मानों कहीं उस अनमोल रस की एक बूंद भी नहीं छोड़ना चाहता हो। मैं अचेत हो गई। कुछ देर बाद जब मुझे होश आया तो मैंने अपने पर उसका वजन महसूस किया। मैंने हाथों से टटोला। वह मुझपर चढ़ा हुआ था। मेरी हाथों की हरकत से उसे मेरे होश में आने का पता चला। उसने मेरे मुँह पर अपना मुँह रख दिया। एक तीखी गंध मेरे नथुनों में भर गई। उसके होठों पर मेरा लिसलिसा रस लगा था। मैंने खुद को चखा। एक अजीब सा स्वाद था – नमकीन, तीखा, बेहद चिकना। मैं उसके गंध में डूब गई। उसने सराबोर होकर मुझे पिया था। कोई हिचक नहीं दिखाई थी कि उस जगह पर कैसे मुँह ले जाए। मेरा एक एक पोर उसके लिए प्यार के लायक था। एक कृतज्ञता से मैं भर उठी। मैंने खुद उसे विभोर होकर चूमा और उसके होठों को, गालों को अगल बगल सभी को चाटकर साफ कर दिया। अंधेरे में मैंने खुद को उसके हवाले कर दिया था। मुझे कोई दुविधा नहीं थी। वह मुझे मोना समझकर कर रहा था। मैं उसका आनंद बिना किसी डर के ले रही थी। मैंने उसे बाँहों में कस लिया। और तब मुझे पता चला की मेरी जांघों पर कोई मोटी चीज गड़ रही है। जांघों के बीच इधर उधर फिसलती हुई कुछ खोज रही है। फिर वह मेरे दरार में उतरी और वहॉ के चिकने रस में फिसलकर दबाव में एकदम नीचे उतरकर गुदा के छेद पर दस्तक दे गई। मेरे भीतर चेतावनी दौड़ गई। अब आगे बढ़ने में खतरा है। अब वह असली काम पर आ गया था। वह घटना जिसका हर लड़की अपने यौवन में विवाह तक इंतजार करती है और जिसे सिर्फ अपने पति के लिए बचाकर रखना चाहती है। अबतक जो हुआ था वह एक एडवेंचर के रूप में लिया जा सकता था। मगर अब इसके बाद जो होगा उसका अधिकार सिर्फ मेरे तन मन के स्वामी को ही था। जिसे मैं सपनों के राजकुमार को अर्पित करना चाहती थी। मगर रोकना कैसे हो। अबतक जो हुआ है उसके बाद उसे किस तरह रोकूँ। मैं सम्पूर्ण निर्वस्त्र थी। उसने न केवल केवल मेरे बदन को छुआ था बल्कि उसके रहस्य की अंतिम सीमा तक गया था और मेरे सबसे गुप्त अंग में मुँह घुसाकर मेरे पहली बार फूटे कुँआरे रसको भी पीया था, जिसका स्वाद इसके पहले मैंने भी नहीं जाना था। वह मुझपर छाया हुआ था। मैं उसके नीचे ढँकी थी। कुदरत अब मुझसे अपना हिस्सा मांग रही थी जिसके लिए उसने मुझे जन्म के बाद से ही तैयार किया था। उसका शिश्न ढूंढ रहा था। मेरी योनि भी उससे मिलने को बेकरार थी, मुझे आगे बढ़ने के लिए ठेल रही थी। । मैंने अंधेरे को ओट देने के लिए धन्यवाद दिया। वही मेरी मदद कर रहा था। मैंने संयम की लगाम छोड़ दी। नियति का घोड़ा जिधर ले जाए। वह थोड़ा ऊपर उठा और मुझपर से नीचे उतरा। उसने मेरे पाँव घुटनों से मोड़ दिये और घुटनों को किताब के पन्नों की तरह फैला दिया। गंतव्य को टटोला। लिंग को हाथ से पकड़कर छेद के मुँह पर लाया। वहाँ उसने ऊपर नीचे रगड़कर रस में अच्छी तरह भिंगोया। मैं दम साधे प्रतीक्षारत थी। क्या करता है। मेरे पैरों के पंजे मेरे नितम्बों के पास नमस्कार की मुद्रा में जुड़े थे। वह लिंग के मुंह को मेरे छेद पर लाकर टिकाया और हल्के से ठेला। तब मुझे उसके थूथन के मोटेपन का पता चला और मैं डर गई। इतना मोटा मेरे छोटे छेद के अंदर कैसे जाएगा? मेरे छेद का मुँह फैला और उसपर आकर उसका शिश्न टिक गया। अब उसके इधर उधर फिसल जाने का डर नहीं था। शिश्न को वहीं टिकाए उसने हाथ हटाया और मेरे उपर झुक गया। मेरे बगलों के नीचे हाथ घुसाकर उसने मेरे कंघों को उपर से जकड़ लिया। उसके वजन से ही शिश्न अंदर धँसने लगा। अब मैं जा रही थी। लुट रही थी। चोर मेरा सबसे अनमोल मेरे हाथों से ही धीरे धीरे छीन रहा था। मेरे राजीनामे के साथ। और मैं कुछ नहीं कर रही थी। विरोध नहीं करके उसे छीनने में मदद कर रही थी। अंधेरा मुझे लुट जाने के लिए प्रेरित कर रहा था। किसे पता चलेगा? फिर प्राब्लम क्या है? रुकना किस लिए? अंधेरा मेरी इच्छा के विरुध्द मेरी मदद कर मुझे छल रहा था। अंधेरा उसे भी छल रहा था क्योंकि मैं उसकी मोना नहीं थी, मगर उसकी मदद भी कर रहा था क्योंकि उसने मुझे निश्चिंत करके मुझको उसे उपलब्ध करा दिया था। कुंवारी लड़की की सबसे अनमोल चीज। कितनी बड़ी भेंट वह अनजाने में पा रहा था ! जानते हुए में क्या मैं उसे हाथ भी लगाने देती! हाथ लगाना तो दूर अपने से बात करने के लिए भी तरसाती। मगर अनजाना होनेपर मैं क्या कर रही थी। वह मेरा कौमार्य भंग कर रहा था और मैं सहयोग कर रही थी। उसका लिंग मेरी योनि के मुँह पर दस्तक दे रहा था। एक घक्का लगा और उसका शिश्न थोड़ा और भीतर धँस गया। छेद मानो खिंचकर फटने लगी। मैं दर्द से बिलबिला उठी। जोर लगाकर उसे हटाना चाहा मगर खुद को छुड़ा नहीं पाई। ऊपर वह मुझे कंधों से जकड़े हुए था और नीचे मेरे पैरों को मोड़कर सामने से अपने पैरों से चाँपे था। छूटती किस तरह! उसने और जोर से दबाया। आह, मैं मर जाउंगी। शिश्न की मोटी गर्दन कील की तरह छेद में धँस गई। वह ठहर गया। शायद छेद को फैलने के लिए समय दे रहा था। मैंने उसे बगलों से पकड़कर ठेलकर छुड़ाने की कोशिश की। मगर सफलता नहीं मिली। वह कसकर मुझे जकड़े था। कोई उपाय नहीं। कोई सहायता नहीं। बुरी तरह फँसी हुई थी। वह उसी दशा में रुका था। कुछ देर में योनि के खिंचाव का दर्द कुछ कम होने लगा। हल्की सी राहत मिली। झेल पाने की हिम्मत बंधी। मगर तभी एक जोरदार धक्का आया और धक्के के जोर से मेरा सारा बदन ऊपर ठेला गया। शिश्न मुझे लगभग फाड़ते हुए मेरे अंदर घुस गया। मैं दर्द से चीख उठी मगर उसने मेरा मुँह बंद कर आवाज अंदर ही घोंट दी। वह बेरहम हो रहा था। लगा आज वह मुझे मार ही डालेगा। जिस तरह कुल्हाड़ी लकड़ी को फाड़ती है उसी तरह मैं फटी जा रही थी। वह मुझे छटपटाने भी नहीं दे रहा था। हर तरफ से जकड़े था। मुँह पर हाथ दबाए था और नीचे दोनों पाँव जुड़े हुए उसके पैरों से मेरे नितम्बों पर दबे थे। उपर से कंधे जकडे था। हिलना भी मुश्किल था। अब वह कोई दया दिखाने को तैयार नहीं था। छेद पर अपना दवाब बढ़ाता जा रहा था। कील धीरे धीरे मुझमें ठुकती जा रही थी। शिश्न मेरे काफी अंदर घुस चुका था। योनि के चिकने गीलेपन में वह भीतर सरकता ही जा रहा था। मैं दर्द से व्याकुल हो रही थी। नश्तर की एक धार मुझे चीरती जा रही थी। छोड़ दो छोड़ दो। मगर मुँह बंधे जानवर की तरह मेरी उम… उम…. की आवाज भीतर ही घुट रही थी। उस सुरंग में सरकते हुए उसका शिश्न मानो किसी रुकावट से टकराया। कोई चीज दीवार की तरह उसका रास्ता रोक रही थी। वह चीज उसके नोंक के दबाव में खिँचती हुई भी आगे बढ़ने नहीं दे रही थी। मेरे भीतर मानों फटा जा रहा था। उसने बेरहमी से और जोर लगाया। भीतर का पर्दा मानों फटने लगा। दर्द की इन्तहा हो गई। मैंने जांघें भींच लीं। किस तरह छुड़ाऊँ। कई तरफ से जोर लगाया। मगर कुछ कर नहीं पाई। रस्सी से बंधे बकरे की तरह हलाल हो रही थी। विवशता में रो पड़ी। सिर्फ जांघों को भींचकर खुद को बचाने की कोशिश कर रही थी। मगर जांघ तो फैले थे। भींचने की कोशिश में छेद और सख्त हो रही थी, उससे और पीड़ा हो रही थी। शायद उसे मुझपर तरस आया। उसने मेरे बहते आँसुओं पर अपने होंट रख दिए। मुझे उस दर्द में भी उसपर दया आई। यह आदमी फिर भी क्रूर नहीं है। मेरा दर्द समझ रहा है। उसने सारे आँसू चूस लिये। मेरी बंद पलकों पर जीभ फिराकर उन्हें भी सुखा दिया। कैसा विरोधाभास था! नीचे से लिंग की कठोर, जान निकाल देनेवाली क्रूरता, उपर से उसकी जीभ का कोमल सहानुभूतिभरा सांत्वनादायी प्यार। उसने मेरे चिड़िया की तरह अधखुले मुँह पर बार बार चुम्बन की मुहर लगाई। फिर ठुड्डी को, गले को, कॉलर की हड्डी को चूमता हुआ नीचे उतरा और प्रतीक्षा में फुरफुराती मेरी बाईं चूची को होंठों में अंदर गर्म घेरे में ले लिया। फिर मेरे दाएँ कंधे के नीचे से हाथ निकालकर मेरी प्रतीक्षारता दूसरी चूची को चुटकी में पकड़कर मसलने लगा। नीचे तड़तड़ाहट के दर्द के बावजूद आनंद की लहरें मुझमें दौड़ने लगीं। एक तरफ दर्द और दूसरे तरफ आनंद की लहर। किधर जाऊँ! एक तड़पा रही थी, दूसरी ललचा रही थी। कुछ क्षण आनंद के हिचकोले मुझे झुलाते रहे और उन हिचकोलों में चुभन की पीड़ा भी कुछ मध्दिम होती सी प्रतीत हुई। हालांकि वह मुझमें उतना ही घुसा हुआ था। “मोना आई लव यू… आई लव यू ….” वह नीचे चूचियों को चूसते हुए वहीं से बुदबुदाया। ‘मोना!’ हाँ, मैं रिया नहीं मोना थी। उसके लिए मोना। संवेदनों की तेज सनसनाहट में मैं भूल गई थी कि मैं मोना नहीं रिया थी। वह इतना प्यार मुझपर बरसा रहा था कोई और समझकर। मुझे पछतावा हुआ। इच्छा हुई उसे बता दूं। मगर आनंद और दर्द की लहरों में यह खयाल मुझे निरर्थक लगा। जो कुछ मैं भोग रही थी, जो आनंद, जो दर्द मुझे मिल रहा था उसमें इससे क्या फर्क पड़ता था मैं कौन हूँ। वह भोगना ही था। वह स्त्री देह की अनिवार्य नियति थी। कोई और राह नहीं थी। नीचे उस अनजान अतिथि को मेरी योनि अपनी पहचान के रस में डुबोकर भीतर बुला ही चुकी थी। अब क्या बाकी रहा था? और तभी ऑंखों के आगे चिनगारियाँ सी छूटीं और मैं बेसम्हाल उठी दर्द की लहर में बेहोश सी हो गई। ‘धचाक’..! उसने शिश्न को थोड़ा बाहर खींचा था। मैंने सोचा वह हमदर्दी में ऐसा कर रहा है, इसलिए ढीली पड़ी थी। मगर तभी एक बेहद जोर का धक्का लगा और मेरी ऑंखों के आगे तारे नाच गए। वह मुझे फाड़ते हुए मुझमें दाखिल हो गया। मैं खुद को भींच भी नहीं पाई थी कि उसे रोक सकूँ। मेरी साँस रुक गई। मैं बिलबिला उठी। आ ..ऽ ..ऽ ..ऽ.. ह ….. आ ..ऽ ..ऽ ..ऽ ह ….. छोड़ो मुझे, छोड़ों मुझे … वह जैसे ठहर कर मेरी छटपटाहट का आनंद ले रहा था। कोई दया नहीं। शिकारी जैसे अपने शिकार को तड़पते देख रहा था। मगर उसने मुझे दर्द की लहर से उबरने का मौका नहीं दिया। अभी ठीक से साँस लेने भी नहीं पाई थी कि दूसरा वार हुआ। एक और जोर का धक्का आया और वह एक गर्म सलाख की तरह मुझमें जड़ तक धँस गया। मेरा कलेजा मुँह को आ गया। उसका छोर मानो मेरे कलेजे तक घुस गया था। कील पूरी तरह ठुक चुकी थी और उसमें भिदकर मेरा कौमार्य एक तितली की भांति तड़प तड़पकर दम तोड़ चुका था, खत्म हो चुका था। अब वह कभी वापस नहीं लौट सकता था। इस जीवन में अब कभी नहीं। मैं ग्लानि से भर उठी। जो इतना अनमोल, इतना सहेजकर रखा था उसे यूँ ही सस्ते में बिना मोल के ही खो दिया था। उसे कभी वापस नहीं पा सकूंगी। मुझे बहुत कसकर अपनी बेहद कीमती चीज के खो जाने का एहसास हुआ। मैं फफक पड़ी। ”डार्लिंग, हो गया, बस… बस, इतना ही।” वह मुझे सांत्वना देने की कोशिश कर रहा था। ‘इतना ही!’ यह क्या कम है? ”अब और कुछ नहीं होगा। बस इतना ही सहना था।” वह मुझे सहलाने लगा था – कंधों को, बगलों को, नर्म छातियों को। ”पहली बार थोड़ा सहना पड़ता है। इसके बाद कभी दर्द नहीं होगा।” आश्वासन का मरहम लगाकर उस दर्द को शांत करने की कोशिश कर रहा था जो मेरी जांघों के जोड़ से बहुत भीतर मर्म तक दहकती आग जैसी जलन से उत्पन्न हो रहा था। उसका हाथ बहुत हौले हौले घूम रहा था, मसलने से दुख रही नाजुक चूचियों पर, तेज साँस में ऊपर नीचे होते नर्म पेट पर, उसके नीचे धड़कते फूले मांसल पेड़ू पर। वह सांत्वना दे रहा था – जांघों पर, घुटनों पर, पैरों पर, कोमल तलवों पर, वहाँ से उतर कर सँकरी कमर पर, उपर क्रमश: चौड़े होते धड पर। हर जगह घूमता हुआ वह मानो मेरा दर्द खींच रहा था। सांत्वना की सहलाहटें, स्पर्श, आश्वासन बरसाते चुम्बन धीरे धीरे असर कर रहे थे। उस आग की जलन कुछ कुछ घट रही थी। हालाँकि दर्द अब भी बहुत था। मगर उसके प्यार का बल पाकर सहने की ताकत आ रही थी। बिल्कुल औरत की तरह जो मर्द के प्यार के बल पर बड़े बड़े दर्द सह जाती है। मैं अब औरत बन गई थी। मगर क्या वह मेरा मर्द था? एक दिया-सा जल रहा था। मैं जल रही थी। जलन मेरे जांघों के बीच हो रही थी जहाँ उसकी विजय पताका पूरे जोश से फहरा रही थी जिसका खंभा मेरे गर्भ तक बेधता हुआ गड़ा हुआ था। मैं उसकी आरती में दिए-सी असहाय जल रही थी। हारी हुई, विवश जलन। जलन मेरे भीतर हो रही थी। हालाँकि योनि की जलन अब घट रही थी। इसमें उसका दोष नहीं था, मैंने खुद इसे चुना था, मोना बनकर। उसका शिश्न मेरे भीतर हिला। इस बार दर्द नहीं हुआ। वह थोड़ा बाहर निकला और फिर बिना किसी खास बाधा के घुस गया। गर्भ के मुँह पर दस्तक पड़ी। डरकर फिर मैंने साँस रोक ली। मगर कुछ खास दर्द नहीं हुआ। वह कुछ ठहरकर फिर थोड़ा बाहर सरका। पहले से ज्यादा। उसके साथ उसके लिंग पर कसी मेरी योनि की दीवारें बाहर की ओर खिंच गई। मेरी भीतरी कोमल नितम्बों पर दबाव पड़ा और वह मोटा शिश्न मेरे अंदर रगड़ता हुआ फिर भीतर पैठ गया। अब मेरी योनि फैल रही थी। वह धीरे धीरे धक्के देने लगा। इस बार दर्द थोड़ा कम हुआ। मेरा भय घटा। अब सह सकूंगी। धीरे धीरे धक्कों का जोर बढ़ने लगा। उसका शिश्न मेरी पिच्छल सुरंग में जोर जोर रगडता फिसलने लगा। वह बाहर भीतर हो रहा था और योनि के संकुचन की रही सही सलवटें मिटा रहा था। मैं सह रही थी। पहली बार फैली योनि की तड़तड़ाहट बरकरार थी। फिर भी उसके धीरज और कोमलता से पेश आने पर मुझे दया आई। सहानुभूति में ही मैंने उसके धक्के से मिलने के लिए अपने नितम्ब उचकाए। वह उत्साह से भर गया। और जोर जोर धक्के लगाने लगा। मेरी योनि में दर्द के बीच भी आनंद की हल्की तरंगें उठने लगी। वह और जोर जोर से धक्के मारने लगा। उसका शिश्न मेरे छेद के मुँह तक आता और फिर सरसराकर भीतर घुस जाता। जब बाहर निकलता तो राहत मिलती और भीतर जाता तो दर्द होता, हालाँकि पहली बार की तरह असह्य नहीं। वह हाँफ रहा था। उसके बदन पर घूमते मेरे हाथ उसके पसीने से गीले हो रहे थे। वह जोर जोर से धक्के मार रहा था। मैं भी हाँफ रही थी। दर्द को भुलाने के लिए कभी उसकी पीठ पर हाथ पटकती, कभी नितम्ब उचकाती। इसे वह मेरा मजा आना समझ रहा था। वह और सक्रिय हुआ, और जल्दी जल्दी करने लगा। उसके मुँह से एक घुटी-सी कराह निकली … आ ..ऽ … ह … और उसने मुझे जोर से भींच लिया। कसाव में मेरी हड्डियाँ चटखने लगीं। मुझे अपने भीतर उसके शिश्न के झटके से फैलने-सिकुड़ने का एहसास हुआ। हर झटके में मेरे भीतर एक गर्म लावा-सा भरने लगा। आ ..ऽ ..ऽ ..ऽ ह … ओ ..ऽ..ऽ..ऽ..ह… वह झड़ रहा था और मेरे भीतर उसकी गर्म धार भरती जा रही थी। वह मुझमें बार बार झड़ रहा था। बाढ़ की तरह उसने मुझे भर दिया। उस गर्म धार में मेरी योनि, मेरा फूला पेडू भींग गए। आसपास के बाल भींगकर चमड़ी में चिपक गए। मुझे भी झड़ने की जरूरत महसूस हो रही थी। मगर दर्द भी हो रहा था। पहली बार होने का दर्द। मैंने उसे सहलाया और फिर उसके मुँह को चूम लिया। पता नहीं क्यों मुझे एक कृतज्ञता-सी महसूस हुई, हालाँकि उसने चोर की तरह छुपकर मुझे विवश करके मेरा शील भंग किया था। मगर फिर भी मैंने उसकी धार में पहला स्नान किया था। वह उठा। लबालब भरी योनि से बहते लिसलिसे द्रव को छेद पर से, दरार में से, नीचे गुदा के छेद पर से, ऊपर चूत पर से पोंछा और मुझपर से उतर गया। मैंने भी अपनी पैंटी, अपनी शलवार खींची और ब्रा और फ्रॉक को टटोलकर उठाया और बाथरूम में चली गई। अब सब कुछ समाप्त हो गया था। बाथरूम की रोशनी में मुझे शलवार पर और फ्राक पर खून के धब्बे नजर आए। धो पोंछकर जब निकली तो मैंने अंधेरे में ही बिस्तर पर उसकी आहट लेने की कोशिश की। गहरी साँसों के आने जाने की आवाज आ रही थी। वह सो रहा था। अच्छा है। जब मोना सोने आएगी तो समझेगी। मैं दरवाजा खोलकर बाहर निकल गई। ——–समाप्त——– वो अनुभव मुझे हमेशा याद रहता है। आज भी खुद से पूछती हूँ की वो कौन था? ये भी की मैं कौन थी?

0/Post a Comment/Comments

Footer Content

73745675015091643

pinterest