Click Me Please

Youtube PlayList

Footer Content

73745675015091643

My Romantic Sex Story

English हिंदी

Sex story with tenant

Hello friends, my name is Rekha. I am writer of Vulgarwriter.com . I am from a good family, but I am a very active girl. I love to hang out with boys. All my friends are also like me. I am present with my new Hindi sex story. I will tell you in my story of chudai that how I made my tenant calm my pussy and ass fire. When both of us get a chance, then how do both of us have sex. Now I am married. My husband serves. I do not have any children yet. My house is very big, due to which my husband has rented four portions. Service class people were in everyone's house. Among the tenants, husbands used to go on jobs and their wives were either in the houses, or some of them would leave the house due to their work. In this way, my whole house was almost deserted during the day. By the way, I talk to all my tenants very well. But what to do, when my pussy is itchy, I start thinking of getting fuck from my tenant. My husband is very good in bed anyway. Whenever he got a chance, he used to fuck me. But I used to feel like having sex everyday and my husband used to fuck me only twice a week due to work in the office. Because of which my fuck could not be done properly. I do all the household work in the morning and when the people of the house go to work, then I remain alone at home. I talk to my tenants in the afternoon. When most of them used to go out of the house, I used to feel very bored. My friends had fun, because they used to call their boyfriends or neighbors at their home and get them kissed. There is also a boy in my tenants. His name is Suresh, he is alone now. He is not married. Both of us soon formed a relationship like friendship. I started liking her very much. We both used to joke with each other. By the way Suresh was a good boy. Since that boy goes to work at night, so I talk to him in the afternoon. Whenever I used to dry clothes, Suresh also followed me and both of us used to talk on the terrace. When my conversation with him started getting more, that boy started looking at me and started talking about double meaning. I had given him a discount, so he became even more cool. I felt like a victim for myself. I started thinking of throwing him into the trap of my beauty. Suresh started to like me, even then I could not even call him at my house. So I used to enjoy myself by talking to her. Gradually, my and Suresh's relationship started changing into love. By the way, I always wear a salwar suit. When it was very hot, I used to wear maxi too. The size of my teat and ass was visible in Maxi. Suresh used to stare at me in a maxi. Sometimes Suresh used to look inside my maxi while talking to me, so he could see my nipple. He used to talk close to me only to see my Tits. I was also attracted to him, so I used to show him everything more than before. He too started coming after me more than before. I knew that Suresh likes my body Sometimes both of us could not talk to each other, then we smiled seeing each other. There was a deep meaning hidden in this smile of both of us, which was understood only by me or Suresh. I had to go to them to collect rent from tenants. Suresh's best thing was that he used to pay his rent to me from time, so I too used to discount him. I used to go to her room sometimes to talk to Suresh. I used to see that he also kept his room well and my husband was also happy with him. We had no complaints with that. There was no one at home that day. Two tenants had gone out with their families and one monarch had gone on duty. His wife also used to go to work at some place in the afternoon. I had a big cock that day. I took a shower and went to dry clothes on the terrace. I was drying clothes, then Suresh came and grabbed me from behind. I started to refuse him, but he was not agreeing. He said to me - sister-in-law, I have become obsessed with your body. I also know that you like me. It was true of him that I too started liking Suresh. He started kissing me. I was refusing to stand up… but I loved her kissing me. Within a short time my protest was over and I started to cooperate with her. Now he kissed my nipple while kissing me, so I also got very hot. Now I also started kissing him. After some time I kissed him and separated from him because sometimes people from my neighborhood also come to the roof to dry their clothes. If a neighbor could see me doing what he did to my tenant, then I would get slander. I came to my room. I came into the room and started remembering the moment with Suresh and my pussy started heating up. I also felt like having sex with Suresh. I was lying down remembering that Suresh started knocking on the door of my room. I asked who is it? Suresh's voice came from there - I am sister-in-law. When I opened the door, Suresh came inside and kissed me and started pressing my nipple. I told her that you go to your room… I come to your room right now. He agreed to this. I went to Suresh's room after some time. I saw that Suresh was in only one underwear and his cock was standing in his underwear. He dragged me to bed in his room and pushed me to bed. He ran and closed the door of his room and came back and kissed me. At this time I was absolutely free. All the people in my house had gone to work and the remaining tenant and his wife had also gone on the job. After Suresh kissed me, I removed my maxi and I got into bra and panty. He rubbed my nipple over my bra for a long time. After that he started licking my panty. Water was coming out of my pussy, due to which my panty was drenched. Suresh grabbed his cock and started licking and after that he removed my bra and panty. Now I was naked in front of her. Seeing my big boobs, he was very upset. He started sucking one of my nipples and rubbing the other. After that he started sucking my second nipple and mashed the first one. After this, he happened to be down and started licking my pussy. I was taking alcoholic cigarettes. I was desperate for fuck. After licking my pussy, he began to finger my pussy. My pussy had very light hair, so he was enjoying it. After the initial conversation, both of us used to keep talking about adult jokes and sex topics while talking to each other, so both of us were giving each other well. After fingering my pussy, I started talking to suck my cock. But I refused to suck him cocks. He agreed after killing After that he started to finger again in my pussy. Water started coming out of my pussy. I was excited and was speaking to finger her in my pussy and inside. He started to finger my pussy loudly. I too had started taking Siskaris loudly. After that we both became absolutely ready to fuck. I told Suresh not to delay now, first quench my thirst, then take up the game. Suresh agreed and he gave me a mind. He agreed to fuck with his cock in front of my pussy. When I had opened my pussy, he put his Aloda on my pussy slices. With the touch of his cock, my pussy was completely bent to fuck. After putting his cock on my pussy, he started rubbing his cock. After that I gestured to fuck him with one eye, then he put his cock in my pussy. As soon as his thick cocks were gone, one of my sigmas came out 'Ummh… Ahhh… Hah… Oh… ’But my pussy soon tolerated his cock. After that he put all his cocks in my pussy and started fucking my pussy. We both started having sex. After some time, he put both my legs on his shoulder and put his cock in my pussy till inside and started fucking my pussy. Both of us were having sex with fun and kissing each other together. During fuck, he was rubbing my nipple… sometimes pressing the nipple in his lips and sucking it. Fucking was started. It was noon, so both of us were drenched with sweat having sex. I was sweating a lot. Suresh was sweating more than me. Before the fuck, my pussy was very hot and his cock was getting out in my pussy, due to which my pussy was feeling strangely good. After a long time I got a chance to fuck with a strong cock. Suresh too had not had sex for a long time and he was fucking me very hard. Which made both of us feel very good. Suresh's lund was quenching the thirst of my pussy… .Danadan Chod was giving his thick cocks to my pussy. While thinking of Suresh, I had thought that if my husband does not fuck me every day, then I will come to Suresh's room and kiss Suresh. Suresh was sucking my pussy by putting all his cocks in, due to which I was enjoying more and I was also getting peace. I was lifting my ass and fucking Suresh. After about twenty minutes both of us started having sex while having sex. Although he was about to come to the peak at this time, but even then he was fucking me with full force. My Siskaris were also getting faster. That's when both of us started to fall in love. We both had sex for a long time. After this, both of them had given up their water together… due to which both of them had great fun. After that I tired and lay down with her for some time. Both of us were breathing fast. Both of us were completely naked after sex. After some time I got up and I wore my bra panty, after that I started wearing my maxi and went to my room. Suresh stopped me and kissed for some time and after that I came to my room. Now both of us started having sex every afternoon. My husband and everyone in my house used to go to the office, so I used to go to Suresh's room and get a kiss. He used to fuck me very well. Whenever my husband had night duty, I would tell Suresh beforehand. After that night, I used to enjoy sex with her openly. Now I started having oral sex with her. I liked to suck his cock. He also opened my ass. I will write you the story of how my ass was inaugurated in my next story. Both of us still have sex in the afternoon. Suresh still lives in my house on rent. I feel a little bad about leaving him now. How did you like my sex story? You all must give feedback on my story.

किरायेदार के साथ सेक्स कहानी कहानी

हैलो फ्रेंड्स, मेरा नाम रेखा है. मैं वल्गर राइटर डॉट कॉम की लेखिका हूँ. मैं एक अच्छे परिवार से हूँ, लेकिन मैं बहुत चालू लड़की हूँ. मुझे लड़कों के साथ घूमना बहुत अच्छा लगता है. मेरी सारी सहेलियां भी मेरी तरह चालू हैं. मैं अपनी नयी हिंदी सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूँ. मैं अपनी इस चुदाई की कहानी में आपको बताऊंगी कि कैसे मैं अपने किरायेदार से अपनी चूत और गांड की आग को शांत किया. हम दोनों को जब भी मौका मिलता है, तो हम दोनों लोग कैसे सेक्स कर लेते हैं. अब मेरी शादी हो चुकी है. मेरे पति सर्विस करते हैं. मेरे अभी कोई बच्चा नहीं हुआ है. मेरा घर काफी बड़ा है, जिस वजह से मेरे पति ने चार पोर्शन किराए पर दिए हुए हैं. सभी के घरों में सर्विस क्लास के लोग ही थे. किरायेदारों में पति लोग जॉब पर चले जाते थे और उनकी पत्नियां या तो घरों में ही होती थीं, या उनमें से कुछ अपने काम काज के चलते घर से बाहर निकल जाती थीं. इस तरह से दिन में मेरा पूरा घर लगभग सुनसान ही रहता था. वैसे मैं अपने सभी किरायेदारों से भी बहुत अच्छे से बात करती हूँ. लेकिन क्या करूं, जब मेरी चूत में खुजली होती है, तो अपने किरायेदार से ही चुदवाने की सोचने लगती हूँ. मेरे पति वैसे तो बिस्तर में बहुत मस्त हैं. जब भी उनको मौका मिलता था, तो वो मेरी चुदाई कर लेते थे. लेकिन मुझे तो रोज सेक्स करने का मन करता था और मेरे पति ऑफिस में काम की वजह से मुझे सप्ताह में एक दो बार ही चोदते थे. जिससे मेरी चुदाई ठीक से नहीं हो पाती थी. मैं सुबह से घर का सब काम कर लेती हूँ और जब घर के लोग जॉब करने चले जाते हैं, तो मैं घर में अकेली रह जाती हूँ. मैं दोपहर में अपने किरायेदारों से बात करती हूँ. उनमें से ज्यादातर स्त्रियां घर से जब निकल जाती थीं, तब मैं बड़ा ही बोर फील करने लगती थी. मेरी सहेलियों की तो मौज थी, क्योंकि वो लोग अपने घर पर ही अपने ब्वॉयफ्रेंड को या पड़ोसी को बुलाकर चुदवा लेती थीं. मेरे किरायेदारों में एक लड़का भी रहता है. उसका नाम सुरेश है, वो अभी अकेला है. उसकी शादी नहीं हुई है. हम दोनों में जल्दी ही दोस्ती की तरह रिश्ता बन गया था. मैं उसे बहुत पसंद करने लगी थी. हम दोनों एक दूसरे से मजाक भी करते रहते थे. वैसे सुरेश अच्छा लड़का था. चूंकि वो लड़का रात को जॉब करने जाता है, इसलिए मैं उससे दोपहर में बात कर लेती हूँ. मैं जब भी कपड़े सुखाने के लिए जाती थी, तो सुरेश भी मेरे पीछे आता था और हम दोनों लोग छत पर बातें कर लेते थे. जब उससे मेरी बातचीत ज्यादा होने लगी, तो वो लड़का मुझे देख कर डबल मीनिंग वाली बातें बोलने लगा था. उसे मैंने ही छूट दे दी थी, इसलिए वो और भी ज्यादा बिंदास हो गया था. मुझे वो अपने लिए एक शिकार जैसा लगता था. मैं उसको अपने हुस्न की जाल में फंसाने की सोचने लगी. सुरेश मुझे अच्छा लगने लगा था, तब भी मैं अभी उसको अपने घर भी नहीं बुला सकती थी. इसलिए मैं उससे बात करके ही मजे ले लेती थी. धीरे धीरे मेरा और सुरेश का रिश्ता प्यार में बदलने लगा. वैसे तो मैं हमेशा सलवार सूट पहनती हूँ. जब बहुत गर्मी होती थी, तो मैं मैक्सी भी पहन लेती थी. मैक्सी में मेरी चूची और गांड का आकार बिल्कुल साफ़ दिखाई देता था. सुरेश मुझे मैक्सी में बहुत घूर घूर कर देखता था. सुरेश कभी कभी मुझसे बात करते करते मेरी मैक्सी के अन्दर देखता था, तो उसको मेरी चूची दिख जाती थी. वो मेरी चूचियों को देखने के लिए ही मुझसे करीब होकर बात करता था. मैं भी उसको अपनी तरफ आकर्षित करने लगी थी, तो मैं उसको अब सब कुछ पहले से ज्यादा दिखाती थी. वो भी मेरे पीछे पहले से ज्यादा आने लगा था. मैं ये जानती थी कि मेरा जिस्म सुरेश को पसंद है. हम दोनों लोग कभी कभी एक दूसरे से बात नहीं कर पाते थे, तो एक दूसरे को देख कर स्माइल कर देते थे. हम दोनों की इस स्माइल में एक गहरा अर्थ छिपा होता था, जो बस मुझे या सुरेश को ही समझ आता था. किरायदारों से किराया उगाहने के मुझे ही उनके पास जाना पड़ता था. सुरेश की सबसे अच्छी बात ये लगती थी कि वो समय से अपना किराया मुझे दे देता था, इसलिए मैं भी उसको किराये में छूट कर देती थी. मैं कभी कभी सुरेश से बात करने के लिए उसके रूम में भी चली जाती थी. मैं देखती थी कि वो अपना रूम भी अच्छे से रखता था और मेरे पति भी उससे खुश रहते थे. उससे हम लोगों को कोई शिकायत नहीं थी. उस दिन घर में कोई नहीं था. दो किराएदार अपने परिवार के साथ बाहर गए हुए थे और एक महाशय अपनी ड्यूटी पर गए थे. उनकी बीवी भी दोपहर में किसी जगह पर काम करने जाती थी. उस दिन मुझे बड़ी चुदास चढ़ी थी. मैं नहाकर छत पर कपड़े सुखाने के लिए गयी. मैं कपड़े सुखा रही थी, तभी सुरेश ने मुझे पीछे से आकर पकड़ लिया. मैं उसको मना करने लगी, पर वो मान नहीं रहा था. उसने मुझसे बोला- भाभी, मैं आपके जिस्म का दीवाना हो गया हूँ. मुझे भी पता है कि आप मुझे पसंद करती हो. उसकी ये बात सच थी कि मैं भी सुरेश को पसंद करने लगी थी. वो मुझे किस करने लगा. मैं खड़ी खड़ी उसे मना तो कर रही थी … पर मुझे उसका मुझे चूमना बड़ा ही अच्छा लग रहा था. कुछ ही देर में मेरा विरोध खत्म हो गया और मैं उसे सहयोग करने लगी. अब उसने मुझे किस करते हुए मेरी चूची को दबा दिया, तो मैं भी एकदम से गर्म हो गयी. अब मैं भी उसको किस करने लगी. कुछ देर मैंने उसको किस करने के बाद अपने से अलग कर दिया क्योंकि कभी कभी मेरे पड़ोस के लोग भी छत पर अपना कपड़े सुखाने के लिए आ जाते हैं. अगर कोई पड़ोसी मुझे मेरे किरायेदार के साथ किस करते हुए देख लेता, तो मेरी बदनामी हो जाती थी. मैं अपने रूम में आ गई. मैं रूम में आकर सुरेश के साथ किस वाले पल को याद करने लगी और मेरी चूत गर्म होने लगी. मुझे भी सुरेश के साथ सेक्स करने का मन कर रहा था. मैं ये सब याद करते हुए लेटी थी कि तभी सुरेश मेरे रूम का दरवाजा खटखटाने लगा. मैंने पूछा- कौन है? उधर से सुरेश की आवाज आई- मैं हूँ भाभी जी. मैंने दरवाजा खोला, तो सुरेश अंदर आकर मुझे किस करने लगा और मेरी चूची को दबाने लगा. मैं उससे बोली कि आप अपने रूम में जाओ … मैं अभी आपके रूम में ही आती हूँ. इस पर वो मान गया. मैं कुछ देर के बाद सुरेश के रूम में चली गयी. मैंने देखा कि सुरेश इस वक्त केवल एक अंडरवियर में था और उसका लंड अंडरवियर में खड़ा था. वो मुझे खींच कर अपने रूम में बिस्तर पर ले गया और मुझे बिस्तर पर धक्का देकर लिटा दिया. वो दौड़ कर अपने रूम का दरवाजा बंद करके वापस आ गया और मुझे किस करने लगा. इस वक्त मैं एकदम फ्री थी. मेरे घर के सभी लोग जॉब करने गए थे और बाकी बचा एक किरायेदार और उसकी पत्नी भी जॉब पर गए हुए थे. सुरेश ने मुझे किस करने के बाद मेरी मैक्सी को निकाल दिया और मैं ब्रा और पेंटी में हो गयी. उसने मेरी ब्रा के ऊपर से ही मेरी चूची को बहुत देर तक मसला. उसके बाद वो मेरी पेंटी को चाटने लगा. मेरी चूत से पानी निकल रहा था, जिससे मेरी पेंटी भीग गयी थी. सुरेश अपना लंड पकड़ कर मुठ मारने लगा और उसके बाद उसने मेरी ब्रा और पेंटी निकाल दिया. अब मैं उसके सामने नंगी हो गयी थी. मेरे बड़ी बड़ी चूचियों को देख कर वो एकदम से मचल गया. वो मेरी एक चूची को चूसने लगा और दूसरी को मसलने लगा. उसके बाद वो मेरी दूसरी चूची को चूसने लगा और पहली को मसलने लगा. इसके बाद वो नीचे को हुआ और मेरी चूत को चाटने लगा. मैं मादक सिसकारियां ले रही थी. मैं एकदम से चुदाई के लिए बेचैन हो गयी थी. वो मेरी चूत चाटने के बाद मेरी चूत में उंगली करने लगा. मेरी चूत में हल्के हल्के बाल थे, जिससे उसे मजा आ रहा था. शुरूआती बातचीत के बाद हम दोनों लोग एक दूसरे से बात करते समय अडल्ट जोक और सेक्स के टॉपिक पर भी बात करते रहते थे, इसलिए हम दोनों लोग एक दूसरे का साथ अच्छे से दे रहे थे. वो मेरी चूत में उंगली करने के बाद मुझे अपना लंड चूसने के लिए बोलने लगा. लेकिन मैंने उसको लंड चूसने के लिए मना कर दिया. वो मन मार कर मान गया. उसके बाद वो मेरी चूत में दुबारा उंगली करने लगा. मेरी चूत से पानी निकलने लगा था. मैं उत्तेजित होकर उसको अपनी चूत में और अन्दर तक उंगली करने के लिए बोल रही थी. वो जोर जोर से मेरी चूत में उंगली करने लगा था. मैं भी जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी थी. उसके बाद तो हम दोनों चुदाई करने लिए एकदम रेडी हो गए. मैंने सुरेश से कहा कि अब देर न करो, पहले मेरी प्यास बुझा दो, बाद में खेल लेना. सुरेश राजी हो गया और उसने मुझे चित्त लिटा दिया. वो मेरी चूत के सामने अपना लंड लेकर चुदाई के लिए तैयार हो गया. मैंने चूत खोल दी थी तो उसने मेरी चूत की फांकों पर अपना लौड़ा टिका दिया. उसके लंड के स्पर्श से मेरी चूत एकदम से चुदने के लिए मचल उठी. कुछ देर मेरी चूत पर अपना लंड रख कर वो अपना लंड रगड़ने लगा. उसके बाद मैंने उसे एक आंख मारते हुए चुदाई करने का इशारा किया, तो उसने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया. उसके मोटे लंड के जाते ही मेरी एक सिसकारी निकल गई ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’ लेकिन मेरी चूत ने जल्द ही उसके लंड को सहन कर लिया. उसके बाद वो मेरी चूत में अपना पूरा लंड डाल कर मेरी चूत को चोदने लगा. हम दोनों लोग सेक्स करने लगे. कुछ देर बाद उसने मेरी दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख लिया और मेरी चूत में अपना लंड अन्दर तक डाल कर मेरी चूत को चोदने लगा. हम दोनों मस्ती से सेक्स कर रहे थे और साथ में एक दूसरे को किस कर रहे थे. चुदाई के दौरान कभी वो मेरी चूची को मसल रहा था … कभी निप्पल को अपने होंठों में दबा कर चूसने लगता था. धकापेल चुदाई होने लगी थी. दोपहर का समय था, इसलिए हम दोनों सेक्स करते करते पसीने से भीग गए थे. मुझे बेहद पसीना आ रहा था. मुझसे ज्यादा तो सुरेश को पसीना हो रहा था. चुदाई के पहले ही मेरी चूत काफी गर्म हो गयी थी और उसका लंड मेरी चूत में अन्दर बाहर हो रहा था, जिससे मेरी चूत को अजीब सा अच्छा फील हो रहा था. मुझे बहुत दिन के बाद एक दमदार लंड से चुदने के लिए मौका मिला था. सुरेश ने भी बहुत दिन से सेक्स नहीं किया था और वो बहुत जोर लगाकर मुझे चोद रहा था. जिससे हम दोनों को ही बहुत अच्छा लग रहा था. सुरेश के लंड से मेरी चूत की प्यास बुझ रही थी … उसका मोटा लंड मेरी चूत को दे दनादन चोद रहा था. मैंने तो सुरेश से चुदते वक्त ही सोच लिया था कि अगर मेरे पति रोज मुझे नहीं चोदेंगे, तो मैं सुरेश के रूम में आकर सुरेश से चुदूंगी. सुरेश अपना पूरा लंड अन्दर डाल कर मेरी चूत को चोद रहा था, जिससे मुझे और भी मजा आ रहा था और साथ में मुझे शांति भी मिल रही थी. मैं गांड उठा उठा कर सुरेश से चुदवा रही थी. करीब बीस मिनट बाद हम दोनों लोग सेक्स करते करते झड़ने लगे थे. हालांकि वो इस वक्त चरम पर आने को था, लेकिन तब भी वो मुझे पूरा जोर लगा कर चोद रहा था. मेरी सिसकारियां भी तेज होने लगी थीं. तभी हम दोनों चुदाई करते हुए झड़ने लगे. हम दोनों ने बहुत देर तक सेक्स किया था. इसके बाद दोनों ने ही एक साथ अपना पानी छोड़ दिया था … जिससे दोनों को ही बड़ा मजा आया था. उसके बाद थक कर मैं कुछ देर के लिए उसके साथ ही लेट गई. हम दोनों लोग की सांसें तेज चल रही थीं. हम दोनों इस वक्त चुदाई के बाद एकदम नंगे पड़े थे. कुछ देर बाद मैं उठी और मैंने अपनी ब्रा पेंटी पहनी, उसके बाद अपनी मैक्सी पहन कर अपने रूम में जाने लगी. सुरेश ने मुझे रोक कर कुछ देर किस किया और उसके बाद मैं अपने रूम में आ गयी. अब हम दोनों लोग रोज दोपहर को सेक्स करने लगे. मेरे पति और मेरे घर वाले सब लोग ऑफिस चले जाते थे, तो मैं सुरेश के रूम में जाकर चुदवा लेती थी. वो मुझे बहुत अच्छे से चोदता था. जब भी कभी मेरे पति की नाईट ड्यूटी होती थी, तो मैं पहले से ही सुरेश को बता देती थी. इसके बाद उस रात को मैं उसके साथ खुल कर चुदाई का मजा ले लेती थी. उसके साथ अब मैं ओरल सेक्स भी करने लगी थी. मुझे उसका लंड चूसना अच्छा लगने लगा था. उसने मेरी गांड भी खोल दी थी. मेरी गांड का उद्घाटन कैसे हुआ, उसकी कहानी मैं आपको अपनी अगली कहानी में लिखूंगी. हम दोनों आज भी कभी दोपहर में सेक्स करते हैं. सुरेश अभी भी मेरे घर में किराये पर रहता है. मुझे उसको छोड़ पाना अब दुश्वार सा लगता है. आप सबको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी. आप सब मेरी कहानी का फीडबैक जरूर दीजिए.

Post a Comment (0)

Footer Link

Facebook