Click Me Please

Youtube PlayList

Footer Content

73745675015091643

Sex With Friend

English हिंदी

Friend's Naked Sister's Pussy Fuck

Friends my name is Pankaj Kumar. I am 24 years old and my friend's sister named Geetu, who is 24 years old. He was very beautiful in appearance, fair brown, his full body, big size boobs, fine looking sloppy ass and slim waist, I found his whole body very sexy. His brother was my friend, so I had a very good conversation with him. We used to keep laughing every now and then and I had a very good friendship with him, but I am colloquial with him, his brother did not know that and taking advantage of that I would meet him out of the house many times and both of us would roam around and Used to have a lot of fun. Then I touched her body several times at her house, but she does not know why she would retreat so nothing had happened between us till now. By the way, her boobs were very attractive, which was always drawn towards her and she also understood this very well. Friends, it had been two years since my friendship with my friend's sister, but in the meantime we had become so close to each other that our laughing and walking around had become too much. I could not sleep without looking at him and I was crazy about him. Then after thinking about it many times, I also pacified my cock, but I had not even touched it properly till now and I used to look for new opportunities to get him. She used to come in my dreams every night. One day when both of us met in a public garden, I did just that to her there and after that both of us started laughing and she was sitting with me at that time. She looked very happy to me and after some time when I saw her good behavior and started putting her hands on her boobs, she immediately removed my hand from her chest with a jerk and started saying what is this all about? I did not think of you like this and she got very angry with me and then immediately stood up and left for her house without speaking to me. Then for at least a month after that he did not talk to me. Then I went to her home and college to apologize to her, but she still remained angry with me and every time I felt disappointed. He stopped talking to me on the phone too, after a few days, I finally did not stop following him and convinced him for a day and he forgave me for my mistake and then everything between us is as before I started walking and then one day I told him that all this goes on and I asked him his opinion about sex. Then she started telling me that I do not like to do this at all, so do not do any such thing with me again. Then I told him that yes, if you do not like me, then I will not do any such thing again, and after that day when we both meet, then between us we would be limited only on his forehead, but now more than me Could not keep going and so I started thinking about fucking him now. Then how ever I had to fuck her once, so I had the ghost of her fuck. Once when I went to her college to meet her during the summer days, she said to me that today you take leave from your office and today we both will sit and talk a lot. Then I called my office and told that today I cannot come to the office due to any urgent work and after that we both sat in his college for some time. Then I told him that if we go for a walk outside, then he also immediately agreed with me, but it was 12.00 and at that time neither we had to get any movie tickets nor could we go to any garden. Could, because most of the cinema shows start in Patna by 11:45 and both of us could not go to the garden because there is too much heat in the day. Then I told her that we both walk in my room and we can talk for hours sitting comfortably there and we will not be afraid of anyone, but she was refusing and telling me that I am afraid If something happens, but I explained to him a lot and after framing him in my words, I told him that if you really love me and if you trust me even a little, then you can walk with me or else I would go to my office And you go to your house. Then on hearing this she said to me that yes I will walk in the room with you, but before that you swear to me that you will not do anything like that with me, then I am ready to walk now and then I thought without thinking Got it immediately I swore and now she was very happy and gladly ready to go to my room with me. Friends, now I have made him sit on my bike, he sat with his hand on my shoulder and sat beside me, but now I kept thinking all the way that I have sworn on his word, but now how will I fuck him? Then when both of us reached my room, I started opening the second door and then she said, why are you opening this door? I said that if someone would see, then who would say who is there and I opened the door and at that time there was no one outside, so nobody had seen us going inside. Then both of us came in and I quickly closed the door and then later sat with her on the bed and then we both started talking, while talking I put one hand on her shoulder and kissed her lips. , As we both used to do at the cinema hall and sometimes seeing the right opportunity, but this kiss lasted for 15 minutes and now I started to put one hand on his chest and I felt his boobs very soft big size. K was absolutely curvy, who was so happy to be touched and felt for the first time today, but he did not oppose my actions on his behalf and hence my courage increased. Now slowly moving from her chest to her pussy, she started turning her hand over the salwar and still kissing my lips with her lips, and one hand on my boobs and one hand on her pussy was caressing her pussy. Was Now I slowly started kissing her neck and then her boobs on the top of her shirt, due to which a strange sob voice was coming out of her mouth, which upon hearing it was quickly understood that she was now completely It's hot Then after that I slowly put one hand forward and put it inside her shirt and started pressing her boobs over the bra, because of that she started to get intoxicated and then squeezed the nipple tightly. She started crying very loudly and now she was very hot and very excited. Then after some time I quickly removed her shirt, but she still did not say anything to me because she was completely hot now, the sex addiction in her body was completely gone. Then I thought it was not good to spend too much time and I took off her shirt, after that I saw that she was wearing a very sexy black colored bra without lanyard and now she was blushing and covering her boobs with both her hands. Was hiding Then I started kissing her again by filling her in my arms and I kept kissing her white hot bare body and she started making little voices and kept pressing both the boobs on her bra continuously. Then at the same time, taking one of my hands on her waist, she also opened her bra hooks and now she was completely naked in front of me. Then I was tempted to see her boobs and I quickly laid her on the bed. Then now I started kissing her boobs. I pressed her boobs very hard and pulled her nipple completely red and she sobbed in excitement, pressing my head on her chest and after kissing her boobs for about 20 minutes, I squeezed her boobs. Put one hand forward towards Salwar and immediately opened his pulse. Friends, I had not stopped kissing her boobs till then and now there were strange strange loud noises coming from her mouth, so I thought that my neighbors would not listen to her voice and if that happened then there would be problem, so I While kissing her boobs, she started the CD button. Now the music started playing loudly and now there was no work to hear the sound of his scream outside. Then I slowly started taking her salwar down. Then after removing her salwar, I started to get her pussy on top of her black colored panty and I realized that her panty was very wet from the pussy part. Now she started sobbing loudly. Then I slowly removed her panty while caressing her pussy, and then I looked very carefully, then her pussy looked absolutely ready for very fair, smooth erotic fuck. Now I started to get her pussy Now she was lying naked in front of me and was not even saying anything. Then I kept sucking her pussy for about ten minutes and I spread my legs and enjoyed licking her pussy. After some time, she began to shake her ass shakenly, seeing that she immediately understood that she is now going to fall. Then as soon as her pussy was about to fall, I was able to move away from it and as soon as I took my mouth away from her pussy, she started yearning like a fish without water and now she started to fuck by putting a finger in her pussy. When I held her both hands tightly, she started pleading in front of me and she started telling me that please lick my pussy loudly, take out its water, uhhfhhhhhh, please something is happening to me. Then I said that sister-in-law, you used to be very strident, then why are you not strutting today, you never even gave me a touch and when I touched a bit you stopped talking to me. Then she started apologizing to me after listening to me and started pleading again in front of me. She started saying that I should calm her pussy today, once I put the fire in her body, let it cool her, otherwise she will go mad , Because she does not know what is happening and she started asking me to lick her pussy with my tongue. Then I saw very carefully that his yearning had started increasing. Now I told him that I can lick your pussy on the same condition, first you will also have to lick my cock, then later I will do all that you will tell me. Now she immediately agreed to me saying yes and I asked her to take off my clothes, so she quickly removed all my clothes and then she said looking at my 6 inch and 2.5 inch thick cocks in front of her eyes. How can it go in my mouth, it is much larger than my mouth. Then I told her that I will tell you all in a freeze and now I sit under her and hold her head and put my cock in her mouth a little bit, after that she slowly moved herself forward and she kept moving for some time. I started licking and sucking my whole cock in her mouth, but tears were flowing from her eyes and still she continued in her work and kept sucking the cocks out like a lollipop and now she has one hand in my hand Was playing with, caressing them and playing with her boobs and squeezing them. Then after licking for a while, he kicked my cock out of his mouth and he started telling me that now you also lick my pussy, so I said let's get into 69 position. Then she started asking me what is that? Then I told him what 69 is and in this way both of us came into 69 position and started making each other happy. While doing this, I was also putting a finger in her pussy and she was saying that I feel pain, but I kept on, because I was having fun. Then after about ten minutes her pussy water came out and I drank her pussy juice, I liked it very much and I kept licking her pussy continuously and she kept on twitching. I brightened her pussy in a while, but by now she was hot again and she was pressing my head on her pussy with one hand. Then as soon as I stopped sucking her pussy, she started pleading in front of me again and started telling me that please do it. Then I told him that I will not be able to do you now, but now I will calm you by putting my cock in your pussy, which will make you enjoy a lot and you will get happiness which you have never received till date. Then she started saying that yes all that is fine, but how will your big fat cock go inside my little pussy, I am also pained by putting your finger inside, then how will I tolerate it? So I told him that you do not have to be afraid at all. You will have some pain at first, but after that you will also enjoy the pleasure and pleasure of sex and then I told her that the hole of all the women pussy is very big because even such a big child would get out very easily from here. is. It seems small in appearance, but it is very big and everyone feels a little pain while doing sex for the first time, by the way, my cock will go very comfortably in your pussy, because once you have fallen and pussy It is completely wet and I put some on it. Then after that I took a little oil on my cock and opened the rest of her pussy lips and put it on there and now instead of putting my cock inside her pussy, I started rubbing it on her lips, then she screamed in a while. It arose that please do it inside now. Then after that I put my cock in her pussy a little bit, then she started to pain and started screaming, so I put my lips on her lips and kept moving my cock there and started shaking back and forth a little bit. After getting calm and having fun, I gave my cock a strong blow in the pussy, due to which my cock went into her pussy and she started to ache, but now my patience was broken, so I cared for it. While not doing it, I started to put my cock in and out of her pussy. Then she continued to feel pain for a while, but after some time, she also started having fun and now she also started having fun with me and the voices started coming out of her mouth ahhhha me for me yes uhhhhhhhhhhhhhhh fun IEEE and fuck me by putting loud and deep inside. Then I told him why you did not like all this work. Then why sister-in-law, you can taste my cock now? I will tear you completely in my pussy and after about 15 minutes of fucking my cock was going to fall and in the meantime I felt that she had fallen twice. Now I told her that my semen is going to come out now and asked her whether I should come in or out, so she said that she should come out because I do not want to get pregnant without marriage. Then I heard that answer immediately, I took my cock out of her pussy and put it in her mouth and now I started banging her in her mouth. Then after giving some shock, my semen came out in a while and its mouth was filled with my semen. Then he swallowed some semen and the rest came out of his mouth and started dripping from his face to his neck and from there he started flowing straight from his chest to his nipple. Then after that lay down on him for a while and kissed him, twisting his semen round his hand and rubbing it on the nipple and playing with his body and his one hand slowly moving my cock up and down. Was caressed and after doing all this for about twenty minutes, both of us got up and started putting on our clothes and I saw that it was now evening and he had to go home too. Then both of us refreshed myself and I kissed her lips and kissed her for five minutes and then after leaving her sitting on her bike near her house, she came and sat with me all the way on the way. Today, for the first time, his mind was very happy to touch her boobs on his waist, perhaps it was because of his first sex with me. Anyway, she looked very happy and completely satisfied with my fuck. I came to my room and cleaned the sheet that was spoiled by the semen of both her and us. Then after that I kept thinking about his fuck and on the same night, I once silenced my cock by hitting his mouth and not knowing when I slept. Friends, this was my first fuck with my girlfriend and after that I fuck her a lot of times, because after getting the first fuck, that fear had gone out of her mind, due to which she had never let me touch her and now she Seeing the right opportunity by myself, I have got my fuck done by calling her home and I have enjoyed her pussy. I always made her happy with my fuck and like she used to say I like her and now she is always open to me and never taunts me.

दोस्त की नखराली बहन की चूत मारी

दोस्तों मेरा नाम पंकज कुमार है. मेरी उम्र 24 साल और मेरे दोस्त की बहन जिसका नाम गीतू है, जिसकी उम्र 24 साल है. वो दिखने में बहुत सुंदर, गोरी भूरी, उसका भरा हुआ बदन, बड़े आकार के बूब्स, ठीक ठाक दिखने वाली मटकती गांड और पतली कमर, मुझे उसका पूरा बदन बहुत सेक्सी लगता था. उसका भाई मेरा दोस्त था इसलिए उसके साथ भी मेरा बहुत अच्छा बोलचाल था. हमारे बीच हर कभी हंसी मजाक चलता रहता और मेरी उससे बहुत अच्छी दोस्ती थी, लेकिन मेरा उसके साथ बोलचाल है यह बात उसके भाई को पता नहीं थी और उस बात का फायदा उठाकर में उससे बहुत बार घर से बाहर मिलता और हम दोनों घूमते फिरते और बहुत मज़े मस्तियाँ करते थे. फिर मैंने बहुत बार उसके बदन को उसके घर पर छुआ, लेकिन वो ना जाने क्यों पीछे हट जाती इसलिए हमारे बीच अब तक ऐसा कुछ भी नहीं हुआ था. वैसे उसके बूब्स थे बहुत आकर्षक जिनको देखकर में हमेशा उसकी तरफ खिंचा चला जाता था और इस बात को वो भी बहुत अच्छी तरह से समझती थी. दोस्तों मेरे दोस्त की बहन से मेरी दोस्ती को हुए पूरे दो साल हो गए थे, लेकिन इस बीच हम दोनों एक दूसरे के इतने करीब हो चुके थे कि हमारा हंसी मजाक मिलना घूमना फिरना बहुत ज्यादा बढ़ चुका था. मुझे उसको देखे बिना नींद नहीं आती थी और में उसके लिए दीवाना हो चुका था. फिर मैंने बहुत बार उसको सोचकर मुठ मारकर अपने लंड को शांत भी किया, लेकिन मैंने उसे अब तक ठीक तरह से छुआ भी नहीं था और में उसको पाने के लिए नये नये मौके ढूंढता रहता था. वह हर रात को मेरे सपनों में आती थी. एक दिन जब हम दोनों एक पब्लिक गार्डन में मिले तो मैंने उसको वहां पर सिर्फ़ किस ही किया और उसके बाद हम दोनों हंसी मजाक बातें करने लगे और वह उस समय मुझसे बिल्कुल चिपककर बैठी हुई थी. वह मुझे बहुत खुश नजर आ रही थी और कुछ देर बाद जब मैंने उसका अच्छा व्यहवार देखकर उसके बूब्स पर हाथ लगाने लगा तो उसने मेरा हाथ उसकी छाती से एक झटका देकर तुरंत हटा दिया और कहने लगी यह सब क्या है? मैंने तुम्हे ऐसा नहीं समझा था और वह मुझसे बहुत गुस्सा हो गई और फिर झट से उठकर खड़ी हुई और मुझसे बिना बोले अपने घर के लिए निकल पड़ी. फिर इसके बाद कम से कम एक महीने तक उसने मुझसे कोई भी बात नहीं कि थी. फिर में उससे माफी मांगने के लिए उसके घर व कॉलेज तक भी गया, लेकिन वह मुझसे तब भी नाराज ही रही और हर बार मुझे निराशा ही हाथ लगी. उसने मुझसे फोन पर भी बात करना बंद कर दिया था, इसके कुछ दिनों बाद मैंने भी आख़िर उसका पीछा नही छोड़ा और उसको एक दिन मना ही लिया और उसने मेरी गलती के लिए मुझे माफ़ भी कर दिया और फिर हमारे बीच सब कुछ अब पहले जैसा चलने लगा था और फिर एक दिन मैंने उससे कहा कि यह सब तो चलता रहता है और मैंने सेक्स के बारे में उससे उसकी राय पूछी. फिर वह मुझसे कहने लगी कि मुझे यह सब करना बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता, इसलिए तुम दोबारा ऐसा कोई भी काम मेरे साथ दोबारा ना करना. फिर मैंने उससे कहा कि हाँ ठीक है, अगर तुम्हे अच्छा नहीं लगता तो में दोबारा ऐसी कोई भी हरकत नहीं करूँगा और उस दिन के बाद हम दोनों जब भी मिलते तो हमारे बीच बस उसके माथे पर किस तक ही सीमित रहते, लेकिन अब मुझसे ज्यादा रहा नहीं जाता था और इसलिए मेंने अब उसको चोदने का विचार बनाने लगा. फिर मुझे कैसे भी करके उसकी एक बार चुदाई जरुर करनी थी, इसलिए मेरे मन में उसकी चुदाई का भूत सवार था. एक बार जब में गर्मीयों के दिनों में उससे मिलने उसके कॉलेज चला गया तो वो मुझसे बोली कि आज तुम तुम्हारे ऑफिस से छुट्टी ले लो और आज हम दोनों बैठकर बहुत सारी बातें करेंगे. फिर मैंने अपने ऑफिस फोन करके कह दिया कि आज में किसी जरूरी काम की वजह से ऑफिस नहीं आ सकता हूँ और उसके बाद हम दोनों कुछ देर तक उसके कॉलेज में ही बैठे रहे. फिर मैंने उससे कहा कि हम कहीं बाहर घूमने चलते है, तो वो भी मेरी बात को तुरंत मान गई, लेकिन उस समय 12.00 बज रहे थे और उस समय ना तो हमें कोई भी फिल्म का टिकट मिलना था और ना ही हम किसी गार्डन में जा सकते थे, क्योंकि पटना में ज्यादातर 11:45 तक सारे सिनेमा में शो शुरू हो जाते है और हम दोनों गार्डन में भी इसलिए नहीं जा सकते थे, क्योंकि दिन में वहाँ पर बहुत ज्यादा गर्मी होती है. फिर मैंने उससे कहा कि हम दोनों मेरे रूम पर चलते है और वहीं पर आराम से बैठकर हम घंटो बातें कर सकते है और हमें किसी का डर भी नहीं होगा, लेकिन वो मना कर रही थी और मुझसे कह रही थी कि मुझे डर लगता है कि कहीं कुछ हो गया तो, लेकिन मैंने उसको बहुत समझाया और उसको मेरी बातों में फंसाकर उससे कहा कि अगर तुम्हे मुझसे सच्चा प्यार है और अगर तुम मुझ पर थोड़ा सा भी भरोसा करती हो तो मेरे साथ चल सकती हो नहीं तो में अपने ऑफिस चला जाता हूँ और तुम तुम्हारे घर पर चली जाओ. फिर यह सुनकर वह मुझसे बोली कि हाँ ठीक है में तुम्हारे साथ कमरे पर चलती हूँ, लेकिन उससे पहले तुम मेरी कसम खाओ कि तुम मेरे साथ ऐसा वैसा कुछ भी नहीं करोगे, तब तो में अभी चलने के लिए तैयार हूँ और फिर मैंने बिना सोचे समझे तुरंत उसकी कसम खा ली और अब वो बहुत खुश होकर मेरे साथ मेरे कमरे पर जाने के लिए ख़ुशी ख़ुशी तैयार हो गई. दोस्तों अब मैंने अपनी बाईक पर उसको बैठा लिया वो मेरे कंधे पर अपना हाथ रखकर मुझसे सटकर बैठ गई, लेकिन में अब पूरे रास्ते यही बात सोचता रहा कि मैंने उसके कहने पर उसकी कसम तो खा ली है, लेकिन अब में इसको कैसे चोदूंगा? फिर जब हम दोनों मेरे रूम पर पहुंचे तो में दूसरा दरवाजा खोलने लगा तभी वो बोल पड़ी कि तुम यह वाला दरवाजा क्यों खोल रहे हो? मैंने कहा कि अगर कोई देख लेगा तो क्या कहेगा कि कौन है और मैंने दरवाजा खोल दिया और उस समय बाहर कोई भी नहीं था, इसलिए किसी ने भी हमें अंदर जाता हुआ नहीं देखा था. फिर हम दोनों अंदर आ गए और मैंने जल्दी से दरवाजा बंद कर दिया और उसके बाद में बेड पर उसके साथ बैठ गया और फिर हम दोनों बातें करने लगे, बातें करते करते मैंने उसके कंधे पर अपना एक हाथ रखा और उसके होंठो पर किस करने लगा, जैसा कि हम दोनों सिनेमा हाल में और कभी कभी सही मौका देखकर करते थे, लेकिन यह किस 15 मिनट तक चलता रहा और अब मैंने उसकी छाती पर अपना एक हाथ फेरना शुरू कर दिया और मैंने महसूस किया कि उसके बूब्स बहुत ही मुलायम बड़े आकार के एकदम सुडोल थे, जिनको छूकर महसूस करके में आज पहली बार इतना खुश था, लेकिन उसने अपनी तरफ से मेरी इस हरकत का कोई भी विरोध नहीं किया और इसलिए मेरी हिम्मत ज्यादा बढ़ गई. अब में धीरे धीरे से उसकी छाती से होता हुआ उसकी चूत पर सलवार के ऊपर से हाथ फेरने लगा और अब भी मेरे होंठ उसके होंठो से किस कर रहे थे और मेरा एक हाथ उसके बूब्स पर और एक हाथ उसकी चूत के ऊपर चूत को सहला रहा था. अब में धीरे से उसकी गर्दन और उसके बाद उसके बूब्स को उसकी कमीज़ के ऊपर से चूमने लगा, जिसकी वजह से उसके मुहं से एक अजीब सी सिसकियों की अवाजें आने लगी थी, जिनको सुनकर में झट से समझ गया था कि वो अब पूरी तरह से गर्म हो चुकी है. फिर उसके बाद मैंने धीरे से अपना एक हाथ आगे बढ़ाते हुए उसकी कमीज़ के अंदर डाल दिया और ब्रा के ऊपर से उसके बूब्स को सहलाने दबाने लगा, उस वजह से वो अब मदहोश होने लगी और फिर में निप्पल को कसकर निचोड़ने लगा. वह अब बहुत ज़ोर से मोन करने लगी और अब पूरी तरह से गर्म होकर बहुत जोश में आ चुकी थी. फिर कुछ देर बाद मैंने जल्दी से उसकी कमीज़ को उतार दिया, लेकिन वो अब भी मुझसे कुछ नहीं बोली क्योंकि वह अब पूरी तरह से गरम हो चुकी थी, उसके शरीर में सेक्स का नशा पूरी तरह से चड़ चुका था. फिर इसलिए मैंने ज्यादा समय लगाना ठीक नहीं समझा और मैंने उसकी कमीज़ को उतार दिया, इसके बाद मैंने देखा कि उसने बहुत सेक्सी बिना डोरी वाली काली कलर की ब्रा पहन रखी थी और अब वह मुझसे शरमाते हुए अपने बूब्स को अपने दोनों हाथों से ढककर मुझसे छुपाने लगी थी. फिर मैंने उसको अपनी बाहों में भरकर उसको दोबारा किस करना शुरू कर दिया और में उसके गोरे गरम नंगे बदन को चूमता रहा और वो हल्की सी आवाजे करने लगी और में उसकी ब्रा के ऊपर से दोनों बूब्स को लगातार सहलाता, दबाता रहा. फिर उसी समय मैंने उसकी कमर पर अपना एक हाथ ले जाकर उसकी ब्रा के हुक भी खोल दिए और अब वो मेरे सामने ऊपर से बिल्कुल नंगी थी. फिर में उसके बूब्स को देखकर ललचाने लगा और मैंने उसको जल्दी से बेड पर लेटा दिया. फिर अब में उसके बूब्स को किस करने लगा. मैंने उसके बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाकर उसकी निप्पल को खींचकर एकदम लाल कर दिया और वो जोश में आकर सिसकियाँ लेते हुए मेरा सर अपनी छाती पर दबाने लगी और करीब 20 मिनट तक उसके बूब्स को किस करने के बाद मैंने बूब्स को निचोड़ते हुए ही उसकी सलवार की तरफ अपना एक हाथ आगे बढ़ा दिया और तुरंत उसका नाड़ा खोल दिया. दोस्तों मैंने तब तक भी उसके बूब्स को किस करना बंद नहीं किया और अब उसके मुहं से अजीब अजीब सी जोरदार आवाज़े आ रही थी, इसलिए मैंने सोचा कि कहीं मेरे पड़ोसी उसकी आवाजे सुन ना ले और अगर ऐसा हुआ तो समस्या हो जाएगी, इसलिए मैंने उसके बूब्स किस करते हुए ही सीडी का बटन चालू कर दिया. अब ज़ोर से म्यूज़िक बजने लगा और अब उसकी चीखने की आवाजे किसी को बाहर सुनाई देने का तो काम ही ना था. फिर मैंने उसकी सलवार को धीरे धीरे नीचे उतारनी शुरू कर दी. फिर उसकी सलवार को उतारने के बाद मेंने उसकी चूत को उसकी काली कलर की पेंटी के ऊपर से सक करने लगा और मैंने चूकर महसूस किया कि उसकी पेंटी चूत वाले हिस्से से बहुत गरम एकदम गीली थी. अब वो ज़ोर से सिसकियाँ लेने लगी. फिर मैंने धीरे धीरे उसकी चूत को सहलाते हुए उसकी पेंटी को भी उतार दिया और फिर मैंने बहुत ध्यान से देखा तो उसकी चूत बहुत गोरी, चिकनी कामुक चुदाई के लिए बिल्कुल तैयार नजर आ रही थी. में अब उसकी चूत को सक करने लगा. वो अब मेरे सामने बिल्कुल नंगी लेटी हुई थी और कुछ बोल भी नहीं रही थी. फिर में करीब दस मिनट तक उसकी चूत को चूसता रहा और मैंने उसके दोनों पैरों को फैलाकर चूत को चाटने चूसने के मज़े लिए. वो कुछ देर बाद अपनी गांड को हिला हिलाकर मचलने लगी, जिसको देखकर में तुरंत समझ चुका था, कि वो अब झड़ने वाली है. फिर जैसे ही उसकी चूत झड़ने वाली थी तो में सक करने से हट गया और जैसे ही मैंने अपना मुहं उसकी चूत से दूर किया, तो वो बिना पानी की मछली की तरह तड़प उठी और अब वो अपनी चूत में ऊँगली डालकर चुदाई करने लगी. मैंने उसके दोनों हाथ कसकर पकड़ लिए तो वो मेरे आगे गिड़गिड़ाने लगी और वो मुझसे कहने लगी कि प्लीज़ तुम मेरी चूत को ज़ोर से चाटो, निकाल दो इसका पानी उफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्ह प्लीज मुझे कुछ हो रहा है. फिर मैंने कहा कि साली पहले तो तू बहुत अकड़ती थी, फिर आज क्यों नहीं अकड़ रही है, तूने मुझे कभी छूने तक भी नहीं दिया और जब मैंने थोड़ा सा छुआ तूने मुझसे बात करना बंद कर दिया. फिर वो मेरी बात को सुनकर मुझसे माफ़ी मांगने लगी और दोबारा मेरे सामने गिड़गिड़ाने लगी वो कहने लगी कि में आज उसकी चूत को शांत कर दूँ, मैंने जो आग उसके बदन में लगाई है, एक बार उसको ठंडा कर दूँ, वरना वो पागल हो जाएगी, क्योंकि उसको न जाने क्या हो रहा है और वो मेरी जीभ से उसकी चूत को चोदने चाटने के लिए कहने लगी. फिर मैंने बहुत ध्यान से देखा कि उसकी तड़प अब ज्यादा बढ़ने लगी थी. अब मैंने उससे कहा कि में तुम्हारी चूत को एक ही शर्त पर चाट सकता हूँ, पहले तुम्हे भी मेरे लंड को चाटना होगा, उसके बाद में वो सब करूंगा जो तुम मुझसे कहोगी. अब वो तुरंत हाँ कहते हुए मेरी बात को झट से मान गयी और मैंने उससे मेरे कपड़े उतारने के लिए कहा तो उसने जल्दी जल्दी मेरे सारे कपड़े उतार दिए और फिर वो मेरे 6 इंच और 2.5 इंच मोटे लंड को अपनी आखों के सामने देखकर बोली कि यह मेरे मुहं में कैसे जा सकता है, यह तो मेरे मुहं से बहुत बड़े आकार का है. फिर मैंने उससे कहा कि अभी रुक साली में तुझे सब बताता हूँ और फिर मैंने उसके नीचे बैठाकर उसके सर को पकड़कर अपना लंड उसके मुहं में थोड़ा सा डाल दिया उसके बाद धीरे धीरे वो खुद ही लंड को आगे बढ़ाती चली गयी और उसने कुछ ही समय में मेरे पूरे लंड को अपने मुहं में डालकर उसको चाटने- चूसने लगी, लेकिन उसकी आखों से आंसू बह रहे थे और फिर भी वो अपने काम में लगी रही और लंड को अंदर बाहर करके लोलीपोप की तरह चूसती रही और अब उसका एक हाथ मेरे आंड के साथ खेल रहा था, उनको सहला रहा था और में उसके बूब्स के साथ खेल रहा था और उनको निचोड़ रहा था. फिर थोड़ी देर चाटने के बाद उसने मेरे लंड को अपने मुहं से बाहर निकाल दिया और वो मुझसे कहने लगी कि अब तुम भी मेरी चूत को चाटो, तो मैंने कहा कि चलो ठीक है 69 की पोजीशन में हो जाओ. फिर वो मुझसे पूछने लगी कि वो क्या होती है? तब मैंने उसको बताया कि 69 क्या होती है और इस तरह हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गये और एक दूसरे को सक करने लगे. ऐसा करते हुए में उसकी चूत में उंगली भी डाल रहा था और वो कह रही थी कि मुझे दर्द होता है, लेकिन में लगा रहा, क्योंकि मुझे मज़ा आ रहा था. फिर करीब दस मिनट के बाद उसकी चूत का पानी निकल गया और में उसकी चूत के जूस को पी गया वो मुझे बहुत अच्छा लगा और में लगातार उसकी चूत को चाटता रहा और वो मचलती रही. मैंने कुछ ही देर में उसकी चूत को पूरा चमका दिया, लेकिन अब तक वो दोबारा गरम हो गई थी और वो मेरा सर अपने एक हाथ से अपनी चूत पर दबाने लगी थी. फिर जैसे ही मैंने उसकी चूत को चूसना बंद किया तो वो दोबारा मेरे सामने गिड़गिड़ाने लगी और मुझसे कहने लगी कि प्लीज सक करो. फिर मैंने उससे कहा कि अब में तुम्हे सक नहीं करूँगा बल्कि अब में तुम्हारी चूत में अपना लंड डालकर तुम्हारी चूत को चोदकर शांत करूंगा, जिससे तुम्हे बहुत मज़ा आयेगा और वो सुख मिलेगा जिसको तुमने आज तक कभी प्राप्त नहीं है. फिर वो कहने लगी कि हाँ वो सब तो ठीक है, लेकिन तुम्हारा इतना बड़ा मोटा लंड मेरी छोटी सी चूत के अंदर कैसे जाएगा, मुझे तो तुम्हारी उंगली अंदर डालने से भी दर्द होता है तो में इसको कैसे सहन करूँगी? तो मैंने उससे कहा कि तुम्हे बिल्कुल भी डरने की ज़रूरत नहीं है. तुम्हे पहली बार में थोड़ी देर दर्द होगा, लेकिन उसके बाद तुम्हें भी चुदाई का सुख और मज़ा आने लगेगा और फिर मैंने उससे कहा कि सभी औरतों की चूत का छेद बहुत बड़ा होता है क्योंकि यहाँ से इतना बड़ा बच्चा भी बहुत आसानी से बाहर निकल जाता है. यह दिखने में छोटा लगता है, लेकिन होता बहुत बड़ा है और पहली बार चुदाई करते समय सभी को थोड़ा सा दर्द जरुर होता है, वैसे मेरा लंड तो तुम्हारी चूत में बहुत आराम से चला जाएगा, क्योंकि तुम एक बार झड़ भी चुकी हो और चूत पूरी गीली है और में इस पर कुछ लगा भी देता हूँ. फिर उसके बाद मैंने तेल लेकर थोड़ा सा अपने लंड पर और बाकी उसकी चूत के होंठो को खोलकर वहाँ पर भी लगा दिया और अब अपना लंड उसकी चूत के अंदर डालने की बजाए में चूत के होंठो पर ही रगड़ने लगा तो वो थोड़ी देर में ही चिल्ला उठी कि प्लीज़ अब इसको अंदर करो ना. फिर इसके बाद मैंने अपने लंड को उसकी चूत में थोड़ा सा अंदर किया तो वो दर्द से तड़पने लगी और चीखने लगी तो मैंने उसके होंठो पर अपने होंठ रख दिए और अपने लंड को वहीं पर रखकर थोड़ा सा आगे पीछे हिलाने लगा और जब वो थोड़ा सा शांत होकर मज़े करने लगी तो, मैंने अपने लंड को चूत में एक जोरदार झटका दे दिया, जिसकी वजह से मेरा लंड उनकी चूत में चला गया और वो दर्द से तड़पने लगी, लेकिन अब मेरे सब्र का बांध टूट चुका था, इसलिए मैंने उसकी परवाह ना करते हुए में अब अपने लंड को उसकी चूत के अंदर और बाहर करने लगा. फिर वो थोड़ी देर दर्द को महसूस करती रही, लेकिन कुछ देर के बाद में उसे भी मज़ा आने लगा और अब वो भी मेरे साथ साथ मज़े करने लगी और उसके मुहं से आवाजे आने लगी आहूऊऊओ ऊऊऊऊऊऊहह हाँ और ज़ोर से धक्का देकर चोदो मुझे मेरे राज हाँ उफफ्फ्फ्फ़ वाह मज़ा आ गया आईईईई और ज़ोर से और अंदर तक डालकर मेरी चुदाई करो. फिर मैंने उससे कहा कि क्यों यह सब काम तो तुझे अच्छे नहीं लगते थे. फिर क्यों साली तुझे अब मेरे लंड का स्वाद आ रहा है ना? तेरी तो चूत को में आज पूरी फाड़ दूँगा और करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद मेरा लंड झड़ने वाला था और इस बीच मैंने महसूस किया कि वो दो बार झड़ चुकी थी. अब मैंने उससे कहा कि मेरा वीर्य अब बाहर आने वाला है और उससे पूछा कि अंदर निकालूं या बाहर तो उसने बोला कि बाहर ही निकालना क्योंकि में बिना शादी के गर्भवती नहीं होना चाहती हूँ. फिर मैंने उसका वो जवाब सुनकर तुरंत मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकालकर उसके मुहं में डाल दिया और अब में उसके मुहं में धक्के मारकर उसको चोदने लगा. फिर कुछ धक्के देने के बाद थोड़ी देर में मेरा वीर्य निकल गया और उसका मुहं मेरे वीर्य से भर गया. फिर कुछ वीर्य तो उसने निगल लिया और बाकी उसके मुहं से बाहर निकलकर उसके चेहरे से होता हुआ उसकी गर्दन पर टपकने लगा और वहां से वो सीधा उसकी छाती से होता हुआ उसके निप्पल तक बहने लगा. फिर उसके बाद में थोड़ी देर उसके ऊपर लेट गया और उसको किस करता रहा, अपने वीर्य को उसकी छाती पर गोल गोल हाथ घुमाकर निप्पल पर भी मसलता रहा और उसके बदन से खेलता रहा और उसका भी एक हाथ मेरे लंड को धीरे धीरे ऊपर नीचे करके सहला रहा था और करीब बीस मिनट तक यह सब करने के बाद हम दोनों उठे और अपने अपने कपड़े पहनने लगे और मैंने देखा तो अब शाम होने लगी थी और उसको घर भी जाना था. फिर हम दोनों ने अपने आपको फ्रेश किया और मैंने उसके होंठो को चूमकर उसको पांच मिनट का एक किस किया और उसके बाद में उसको अपनी बाईक पर बैठाकर उसके घर के पास छोड़कर आ गया, वो जाते समय पूरे रास्ते मुझसे एकदम चिपककर बैठी हुई थी. आज पहली बार में उसके बूब्स को अपनी कमर पर छूकर मन ही मन बहुत खुश था, शायद उसके अंदर मेरे लिए इतना परिवर्तन उसकी मेरे साथ पहली चुदाई की वजह से था. वैसे भी मेरी चुदाई से वो बहुत खुश और पूरी तरह से संतुष्ट नजर आ रही थी. मैंने अपने कमरे पर आकर उसके और हम दोनों के वीर्य से खराब हुई उस चादर को सबसे पहले साफ किया. फिर उसके बाद में उसकी चुदाई के बारे में सोचता रहा और उसी रात को मैंने एक बार उसके नाम से मुठ मारकर अपने लंड को शांत किया और ना जाने कब में सो गया पता ही नहीं चला. दोस्तों यह थी मेरी पहली चुदाई अपनी गर्लफ्रेंड के साथ और उसके बाद मैंने उसको बहुत बार चोदा, क्योंकि पहली चुदाई करवाने के बाद से उसके मन से वो डर एकदम निकल चुका था, जिसकी वजह से उसने मुझे कभी छूने भी ना दिया था और अब वह खुद ही मुझे सही मौका देखकर अपनी घर पर बुलाकर अपनी चुदाई मुझसे करवा चुकी है और में उसकी चूत के मज़े ले चुका हूँ. मैंने उसको अपनी चुदाई से हमेशा खुश किया और वह जैसे कहती मैंने उसको वैसे ही चोदा और अब वो हमेशा मुझसे खुलकर रहती है और कभी भी मुझसे नखरे नहीं करती है.

Post a Comment (0)

Footer Link

Facebook